योगेंद्र यादव ने शुरू किया देशव्यापी आंदोलन, साथ ही लखीमपुर खीरी मामले में यूपी प्रशासन के बजाय उच्चतम न्यायालय से की जांच की मांग

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में प्रदर्शनकारी किसानों को गाड़ी से कुचलने के मामले में सामाजिक कार्यकर्ता योगेंद्र यादव ने घोषणा की है कि सोमवार को देश भर के जिला मजिस्ट्रेट कार्यालयों के बाहर आंदोलन किया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने इस घटना की जांच उत्तर प्रदेश प्रशासन के बजाय उच्चतम न्यायालय के पदस्थ न्यायाधीश से कराने की मांग की है। बता दें रविवार को हुई इस हिंसक झड़प में अब करीबन आठ लोगो की मौत की खबर सामने आई है।

जिसमें चार प्रदर्शनकारी किसान और चार अन्य लोग शामिल हैं, जो कथित तौर पर किसानों को कुचलने वाली जीप में सवार थे। रविवार को योगेंद्र यादव ने कहा, “रविवार की घटना पर विरोध जताने के लिए एसकेएम ने सोमवार को देशभर में पूर्वाह्न 10 बजे से अपराह्न एक बजे तक सभी जिलाधिकारियों और आयुक्तों के कार्यालयों के बाहर प्रदर्शन करने का आह्वान किया है।”

सिंह और यादव ने डिजिटल संवाददाता सम्मेलन में कहा, ” हम केंद्रीय गृह राज्यमंत्री और खीरी से सांसद अजय कुमार मिश्रा को तत्काल उनके पद से बर्खास्त करने की मांग करते हैं। हम भारतीय दंड संहिता की धारा-302 (हत्या) के तहत मंत्री के बेटे और अन्य गुडों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग करते हैं।”

ये है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र और UP के डिप्टी CM केशव मौर्य एक कार्यक्रम के लिए लखीमपुर खीरी पहुंचे थे। जब इसकी जानकारी कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को लगी, तो वे हेलिपैड पर पहुंच गए। किसानों ने रविवार सुबह 8 बजे ही हेलिपैड पर कब्जा कर लिया था। इसके बाद, दोपहर करीब 2.45 बजे सड़क के रास्ते मिश्र और मौर्य का काफिला तिकोनिया चौराहे से गुजरा,

तो किसान उन्हें काले झंडे दिखाने दौड़ पड़े। इसी दौरान काफिले में शामिल अजय मिश्र के बेटे आशीष ने अपनी गाड़ी किसानों पर चढ़ा दी। यह देखकर किसानों का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने आशीष मिश्र की गाड़ी समेत दो गाड़ियों में आग लगा दी। इस पूरे मामले में अब तक कई लोगों की मौत हो गई है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending