XRay Setu: चेस्ट एक्स-रे से वॉट्सऐप पर कोविड-19 का पता लगाएगा प्लेटफॉर्म, ऐसे करेगा काम

XRay Setu एक नया आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस प्लेटफॉर्म विकसित किया गया है जिससे डॉक्टरों को मरीज का चेस्ट एक्स-रे मिल जाएगा और वो वॉट्सऐप पर कुछ ही मिनटों में इसका विश्लेषण कर सकेंगे। इसमें छाती के एक्स-रे के कम रिजोल्यूशन की तस्वीर से भी डॉक्टर बीमारी का पता लगा सकते हैं। जिन डॉक्टरों के पास एक्स-रे मशीनें हैं वो वॉट्सऐप पर चेस्ट एक्स-रे के जरिए कोविड-19 के लक्षणों की रैपिड स्क्रीनिंग कर सकते है। इससे कोविड का पहले पता चल सकेगा। इस ऐप्लीकेशन से अब ग्रामीण इलाकों में 1200 से ज्यादा रिपोर्ट को एनालाइज़ किया जा चुका है। एक्सरे सेतु के जरिए एक्सरे रिपोर्ट भेजने के आधे घंटे में आपको संक्रमण के बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।XraySetu न सिर्फ COVID-19 बल्कि कई अन्य बीमारियों का भी पता लगा सकता है जिसमें निमोनिया, टीबी जैसी बीमारी शामिल हैं।

प्लेटफॉर्म को बेंगलुरु केइंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (IISc) द्वारा स्थापित एनजीओ Artpark (AI & Robotics Technology Park) और भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (DST) ने एक हेल्थटेक स्टार्टअप Niramai के साथ मिलकर डेवलप किया है। इसमें मरीज़ के एक्सरे की फोटो को एक्सरे सेतु पर वाट्सऐप से एक नंबर पर भेजनी होती है। जिसे ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से देखा जाता है कि फेफड़ों में कोरोना संक्रमण है कि नहीं। रिपोर्ट के दो पेज डॉक्टर के पास भेजे जाते हैं।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने बुधवार को बयान जारी कर बताया, बेंगलुरु स्थित हेल्थ-टेक स्टार्टअप निरामय और भारतीय विज्ञान संस्थान ने विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के साथ मिलकर एक्स-रे सेतु बनाया है। स्टार्टअप ने इस सुविधा की मदद से व्हाट्सएप पर भेजी गई छाती की एक्स-रे छवियों से कोरोना संक्रमित रोगियों की पहचान की। स्टार्टअप के मुताबिक एक्स-रे सेतु तेजी से परिणाम देता है और उपयोग में आसान है। यह ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना रोगियों की तेजी से पहचान करने में मदद कर सकता है।
एक्सरे सेतु ने पिछले 10 महीनों में ग्रामीण क्षेत्रों में 300 से अधिक डाक्टरों की मदद की है। इस चैट बॉट से कोविड-19 सहित निमोनिया और फेफड़ों से संबंधित 14 अन्य बीमारियों का भी पता लगा सकता है। एक्सरे सेतु का उपयोग एनालाग और डिजिटल एक्स-रे दोनों के लिए किया जा सकता है। मोबाइल से भेजे गए कम-रेजोल्यूशन छवियों को देखकर भी यह बीमारी बताने में सक्षम है। फिलहाल यह सुविधा अगले 6-8 महीने तक निशुल्क रहेगी, हालांकि पेड होने पर भी इसका खर्च 100 रुपये से कम होगा। यह सुविधा पिछले हफ्ते से काम में ली जा रही है और 500 डॉक्टर इसका इस्तेमाल कर चुके हैं। हम अगले 15 दिनों में 10 हजार डॉक्टर्स का नेटवर्क तैयार करने की योजना बना रहे हैं। 

निरामई की संस्थापक और सीईओ डॉ गीता मंजूनाथ ने कहा,“निरामाई ने एक्स-रे मशीनों तक पहुंच रखने वाले ग्रामीण डॉक्टरों के लिए तेजी से COVID स्क्रीनिंग विधि प्रदान करने के लिए ARTPARK और IISc के साथ भागीदारी की है। जिससे यह अनुमान लगाया जा सके कि किसी मरीज के फेफड़े में कोई असामान्यता है जो COVID-19 संक्रमण का संकेत देती है। ” 

कैसे काम करेगा XraySetu
• हेल्थ चेकअप के लिए डॉक्टर को https://wwww.xraysetu.com पर जाएं और फिर ‘Try the Free X-raySetu Beta’ बटन पर क्लिक करें।
• अब प्लेटफॉर्म एक दूसरे पेज पर ले जाएगा जहां आप वेब या स्मार्टफोन ऐप के जरिए वॉट्सऐप-बेस्ड चैटबॉट चुन सकते हैं।
• यह डॉक्टर को XraySetu की सर्विस को स्टार्ट करने के लिए +91 8046163838 नंबर पर वॉट्सऐप मैसेज भेजने को कहेगा।
• इसके बाद बस मरीज के एक्स-रे की फोटो क्लिक करनी होगी और फिर कुछ मिनटों में दो पेज की ऑटोमेटेड रिपोर्ट मिल जाएगी।
• अगर किसी व्यक्ति को कोरोना है तो इस रिपोर्ट में यह भी बताया जाएगा कि उसे तुरंत डॉक्टर के सलाह की जरूरत है।

ARTPARK के संस्थापक और सीईओ श्री उमाकांत सोनी ने कहा, हमें 1.36 अरब लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रौद्योगिकी को बढ़ाने की जरूरत है, विशेष रूप से हमारे यहां 1 मिलियन से अधिक लोगों के लिए 1 रेडियोलॉजिस्ट है। उद्योग और शिक्षाविदों के सहयोग से निर्मित,एक्सरे सेतु एआई जैसी प्रौद्योगिकियों के लिए मार्ग प्रशस्त करता है और ग्रामीण भारत को अत्यंत लागत प्रभावी तरीके से अत्याधुनिक स्वास्थ्य प्रौद्योगिकी प्रदान करता है। उन्होंने आगे बताया कि डॉक्टर या रेडियोलॉजिस्ट XraySetu के वॉट्सऐप बॉट पर चेस्ट एक्स-रे अपलोड करते हैं, जो एआई की मदद से उसे एनालाइज करता है उसे 10-15 मिनट में रिपोर्ट तैयार कर देता है। यह वॉट्सऐप पर आने वाले लो रेजोल्यूशन वाले चेस्ट एक्स-रे की फोटो देखकर ये बता सकता है कि कोरोना संक्रमित है या नहीं।

बता दें की राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान से 1,25 000 से अधिक एक्स-रे छवियों के साथ परीक्षण और मान्य, यूके के साथ-साथ 1000 से अधिक भारतीय COVID रोगियों, XraySetu ने 98.86% संवेदनशीलता और 74.74% विशिष्टता के साथ उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending