क्या भारत पाक सीमा पर फिर लगेगा मेला? क्या इस बार भी सीमा पर बंटेगा ‘शक्कर’ और ‘शर्बत’?? जानिए

कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर के चलते अभी तक चमलियाल दरगाह पर 24 जून को लगने वाले अंतरराष्ट्रीय मेले के आयोजन पर दोनों ही मुल्कों के बीच कोई मीटिंग नहीं हो पाई है। पिछले साल भी इसे कोराना के कारण रद्द कर दिया गया था। अब सबके मन में यह सवाल उठ रहें है की भारत-पाकिस्‍तान सीमा पर स्थित चमलियाल दरगाह पर 24 जून को अंतरराष्ट्रीय मेला लगेगा या नहीं। इस बार मेले के आयोजन को लेकर आशंकाओं का दौर भी जारी है। हालांकि भारत-पाक के बीच सरहद बनने के बाद मेले की रौनक कम हो गई। पहले मेले के सातों दिन बाबा की मजार पर श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता था। वर्तमान में मेले के आखिरी तीन-चार दिन ही अधिक भीड़ रहती है। जिस दिन भारतीय क्षेत्र दग-छन्नी स्थित बाबा चमलियाल दरगाह पर वार्षिक मेला लगता है, उस दिन पाकिस्तान को तोहफे के तौर पर पवित्र शर्बत और शक्कर भेंट की जाती है।

इस मेले का एक अन्य मुख्य आकर्षण भारतीय सुरक्षाबलों द्वारा ट्रालियों तथा टैंकरों में भरकर ‘शक्कर’ तथा ‘शर्बत’ को पाक जनता के लिए भिजवाना होता है। इस कार्य में दोनों देशों के सुरक्षाबलों के अतिरिक्त दोनों देशों के ट्रैक्टर भी शामिल होते हैं और पाक जनता की मांग के मुताबिक उन्हें प्रसाद की आपूर्ति की जाती है। बदले में सीमा पार से पाक रेंजर उस पवित्र चाद्दर को बाबा की दरगाह पर चढ़ाने के लिए लाते हैं जिसे पाकिस्तानी जनता देती है। दोनों सेनाओं का मिलन जीरो लाइन पर होता है। यह मिलन कोई आम मिलन नहीं होता।

परंपरा के अनुसार पाकिस्तान स्थित सैदांवाली चमलियाल दरगाह पर वार्षिक साप्ताहिक मेले का आगाज वीरवार को होता है और अगले वीरवार को समापन। भारत-पाक विभाजन से पूर्व सैदांवाली तथा दग-छन्नी में चमलियाल मेले में शरीक हुए बुजुर्ग गुरबचन सिंह, रवैल सिंह, भगतू राम व लेख राज ने बताया कि यह ऐतिहासिक मेला है। पाकिस्तान के गांव तथा शहरों के लोग बाबा की मजार पर पहुंचकर खुशहाली की कामना करते हैं। पाक श्रद्धालु कतारों में लगकर बाबा के पवित्र शर्बत शक्कर हासिल करते हैं। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending