किसी भी शुभ कार्य के पहले महिलाओँ को क्यों फोड़ने नहीं दिया जाता नारियल ? जानिए क्या है इसके पीछे कारण

हिंदू धर्म में किसी भी शुभ कार्य को शुरू करने से पहले नारियल फोड़ने की प्रथा है। किसी भी शुभ कार्य को शुरू करने से पहले नारियल जरूर फोड़ा जाता है। लेकिन आपने देखा होगा कि हमेशा नारियल पुरुष ही फोड़ते हैं, महिलाएं नारियल नहीं छोड़ती हैं। इसके पीछे क्या कारण है, इस लेख में हम आपको इसी की जानकारी देने जा रहे हैं।
तो आइए इस बारे में जाने।

बात अगर नारियल की की जाए तो नारियल को किसी भी शुभ कार्य के पहले फोड़ना शास्त्रों के मुताबिक एक तरह की बलि का प्रतीक है। मान्यता है कि नारियल एक बीज है और महिला एक बीज के रूप में बच्चे को जन्म देती है। इसलिए महिलाएं नारियल नहीं फोड़ती है। कहा जाता है कि अगर कोई महिला नारियल फोड़ती है तो इसका नकारात्मक असर गर्भाशय पर पड़ता है। इसीलिए महिलाएं नारियल नहीं फोड़ती है।

बता दें कि नारियल एक बहुत ही पवित्र फल है। नारियल में भगवान, ब्रह्मा, विष्णु और महेश तीनों ही त्रिदेव का वास माना जाता है। नारियल में दिखाई देने वाली तीन आंखें शिव के त्रिनेत्र का रूप माने जाते हैं। ऐसे में नारियल सनातन धर्म में काफी पवित्र फल है। शास्त्रों की मानें तो धरती पर फल के रूप में भगवान विष्णु ने लक्ष्मी जी के साथ नारियल को भी भेजा था और नारियल पर सिर्फ मां लक्ष्मी का अधिकार है। इसीलिए सनातन संस्कृति में हिंदू धर्म में महिलाओं द्वारा किसी भी शुभ कार्य से पहले नारियल फोड़ने की मनाही है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending