WHO ने जारी की नई गाइडलाइन, खाने में इन्हें करें शामिल

कोरोना वायरस से पूरे देश भर में दहशत का माहौल है आए दिन कोरोना और भी ज्यादा डरावना होता जा रहा है पिछले साल की तुलना में इस साल का कोरोना ज्यादा जानलेवा है। कोरोना की इस दूसरी लहर से लगभग हर वर्ग की आयु के लोग ग्रसित हैं। हालांकि अभी तक कोरोना का कोई भी इलाज उपलब्ध नही है लेकिन इम्यून सिस्टम को बूस्ट कर इस महामारी को जरूर हराया जा सकता है।

इस भयानक माहौल में आपकी जीवनशैली सबसे अधिक मायने रखती है। आपका खान-पान, आपकी दैनिक एक्टिविटी आपको इस बीमारी की चपेट में आने से बचा सकती है इस पर WHO ने बताया है कि कोरोना के दौर में कैसी डाइट लेनी चाहिए।

डब्ल्यूएचओ के द्वारा जारी की गई गाइडलाइन –

डब्ल्यूएचओ के अनुसार अधिक से अधिक ताजे फल, कच्ची सब्जी या अनप्रोसेस्ड सब्जियों का सेवन करना चाहिए जिससे आपको जरूरी विटामिन, मिनरल्स, फाइबर, प्रोटीन मिलते रहेंगे।

डब्ल्यूएचओ ने बताया कि सब्जियों को अधिक पकाकर खाने से उसके पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं। इसलिए कोशिश करें। उन्हें भाप में पका कर खाएं या कच्ची सब्जी खाएं।
शाम को भूख लगने पर कच्ची सब्जियां और ताजे फल ही खाएं। इससे पोषक तत्व आपके शरीर में पहुंच सकेंगे। वहीं अगर आप डिब्बा बंद सब्जियां और फ्रूट्स या अन्य कुछ खाते हैं तो ध्यान रहे उसमें अधिक नमक या चीनी नहीं हो। यह दोनों ही, शरीर के लिए नुकसानदायक है।

इम्यूनिटी बढ़ाने का सही तरीका –

प्याज, लहसन और हल्दी – किसी भी तरह की बीमारी में यह तीनों ही रामबाण की तरह कारगर होती है। जी हां, यह आपके इम्यूनिटी को बूस्ट करने में कारगर है।

सहजन फली – सहजन फली में मौजूद तत्व आपकी इम्यूनिटी बूस्ट करने में मदद करेंगे। यह सुपरफूड में गिना जाता है।

नारियल पानी – नारियल पानी पीने से शरीर में ताजगी बनी रहती है। कमजोरी महसूस होने पर तुरंत एक नारियल पानी पी लीजिए। इससे शरीर में पानी की कमी भी पूरी हो जाएगी और तरावट बनी रहेगी।

अलसी – इसे तीसी भी कहा जाता है। विदेश में भी इसकी काफी डिमांड होती है। इसमें काफी मात्रा में फाइबर और प्रोटीन मौजूद होता है। ओमेगा-3 अलसी में काफी मात्रा में होता है। हार्ट मरीजों के लिए काफी कारगर मानी जाती है।
सूरजमूखी बीज – इसमें विटामिन बी और ई की मात्रा अधिक पाई जाती है। विटामिन ई आपके अंदर मौजूद कोशिकाओं की रक्षा करता है। कैंसर जैसी बीमारी से लड़ने में यह सहायता करता है। वहीं गर्भवती महिलाओं को इसके बीज दिए जाते हैं।
कद्दू के बीज – अक्सर खाने की मूल चीज को फेंक देते हैं। कद्दू के बीज में विटामिन बी की प्रचूर मात्रा पाई जाती है। इसमें मैग्निशियम, आयरन, जिंक और प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता है। इतना ही नहीं इसका सेवन करने से मानसिक तनाव और डिप्रेशन जैसी बीमारी में भी आराम मिलता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending