महाकुंभ – 2021 की ये कैसी तैयारी ? उठे सवाल

महाकुंभ – 2021 का आयोजन इस बार हरिद्वार में हो रहा है. महांकुभ के आयोजन की तैयारियों जोरों पर है लेकिन इस पर कई सवाल भी खड़े होने लगे है. दरअसल, महाकुंभ के आयोजन के मद्देनजर विकाश कार्यों के अंतगर्त बनाई गई शहर की दो सड़को गुणवत्ता जांच में फेल हो गई है. हरिद्वार में सूखी नदी पर निर्मित डबल लेन बो-स्ट्रींग पुल भी थर्ड पार्टी की तकनीकी जांच में फेल हो गया है. आपको बता दे कि हरिद्वार में महाकुंभ के आयोजन के मद्देनजर लगभग तैयारियां पूरी हो चुकी है पर और अब कुंभ मेला प्रशासन की ओर से निर्माण कार्यों के भुगतान कराने से पहले थर्ड पार्टी तकनीकी जांच कराई जा रही है. इसी बीच जांच में कई खामियां सामने आ रही हैं जिसने कई सवाल खड़े कर दिए है. वहीं सड़कों और पुल की गुणवत्ता खराब होने से महाकुंभ के तकनीकी प्रकोष्ठ ने निर्माण एजेंसियों का जवाब तलब किया है.

आइये जान लेते है कि हरिद्वार में किन सड़कों और पुलों के निर्माण में गलतियां पाई गई है.

  1. कुंभ मेला के अंतर्गत हरिद्वार शहर में दिल्ली बाईपास मार्ग के सूखी नदी पर पूर्व निर्मित क्षतिग्रस्त 50 मीटर स्पान सेतु के स्थान पर डबल लेन बो-स्ट्रींग सेतु का निर्माण हुआ है जहां इसके IRI रुड़की द्वारा सेतु के 24 सैंपल लिए गए. आपको बता दे इसके सभी सैंपल गुणवत्ता मानकों में फेल आए हैं.
  2. लोक निर्माण विभाग के अधीन ज्वालापुर-ललतारौ-चंडीघाट मार्ग के कार्य का गुणवत्ता नियंत्रण संस्था क्वालिटी ऑस्ट्रिया की ओर से थर्ड पार्टी तकनीकी जांच की गई जहां इसमें कई जगहों से सैंपल लिए गए, जो कि फेल पाए गए.
  3. चीला रोड सड़क की मरम्मत, सुदृढ़ीकरण और प्रलेपन कार्य की गुणवत्ता नियंत्रण संस्था क्वालिटी ऑस्ट्रिया द्वारा थर्ड पार्टी जांच की गई। सड़क निर्माण कार्य के अलग-अलग जगहों से 23 सैंपल लिए गए। अधिकतर सैंपल जांच में फेल हो गए.

गौरतलब है कि महाकुंभ के शुरू होने में ज्यादा दिन का समय नहीं रहा गया हैं और ऐसे में अगर इस तरह की खबर सामने आएगी तो सवाल तो खड़े होंगे ही. इससे पहले अखाडा परिषद भी कुंभ की तैयारियों पर सवाल उठा चुका है, लेकिन उत्तराखण्ड की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार का दावा है कि महाकुंभ की तैयारियां में कोई कही कमी नहीं है. लेकिन सामने आई खामियां कुछ ही कह रही है.

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending