कोरोना महामारी से लड़ने के लिए मास्क पहनना सबसे जरूरी,क्या आपका मास्क है सुरक्षित?

पिछले साल से लेकर और अब तक कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। यही नहीं कोरोना की दूसरी लहर इतनी भयावह थी कि न केवल इस वायरस से लोग संक्रमित हुए बल्कि कोरोना ने काफी संख्या में लोगों की जान भी ली है। कोरोना महामारी के बीच हर किसी को कोविड-19 से जुड़े नियमों का पालन करने के लिए कहा जा रहा है। साथ ही वैक्सीनेशन पर जोर दिया जा रहा है। वहीं इन सबके बीच कोरोना वायरस के दौरान लोगों को मास्क पहनने के लिए कहा जा रहा है। ताकि लोग खुद को सुरक्षित रख सके। गौरतलब है मास्क पहनने से काफी कोरोना वायरस से संक्रमित होने से काफी बचाव होता है। लेकिन आखिर मास्क कैसा होना चाहिए, जो हम मास्क पहन रहे हैं वो सही है, हमारा मास्क पहनने का तरीका बिल्कुल सही है? ऐसे में बहुत से सवाल हैं जो हर वक्त लोगों को परेशान करते रहते हैं, तो चलिए जानते हैं मास्क से जुड़े इन सवालों के जवाब।

मास्क पहनते समय रखें  ये सावधानियां…

-हमेशा याद रखें मास्क को इस तरह से पहनना है, जिससे मुंह, नाक और ठुड्डी अच्छे से कवर रहे। इसके अलावा मास्क चेहरे पर ढीला न आए, ताकि बार-बार हाथों से उसे ठीक तरह से चेहरे पर बैठना न पड़े।

-मास्क और चेहरे के बीच में गैप नहीं होना चाहिए, क्योंकि अगर ऐसे में थोड़ा सा भी गेप होगा तो फिर वायरस के कण आपके मुंह या नाक में प्रवेश कर सकते हैं।

– मास्क को बार-बार छूने से बचें। इसके अलावा गंदे हाथों से मास्क को नहीं छूना चाहिए।

करे ऐसे मास्क का इस्तेमाल…

 -हमेशा इस तरह का ऐसा मास्क पहने जिसमें आपको सांस लेने में परेशानी नहीं हो। खासतौर पर बच्चों और बुजुर्गों का मास्क अच्छा होना चाहिए।

-यदि आप सर्जिकल, कपड़े या अन्य तरह का मास्क का यूज कर रहे हैं तो आपको इन मास्क को एक तय समय के बाद बदल लेना चाहिए और नया मास्क पहनना चाहिए।

-कोरोना संक्रमित होने से बचने के लिए सर्जिकल मास्क पहनना बेहतर माना जाता है। तीन लेयर वाले इस सर्जिकल मास्क में हवा में मौजूद बड़े पॉल्यूशन के कण भी हमारे अंदर नहीं पहुंच पाते। हालांकि, इस मास्क को एक बार इस्तेमाल के बाद दोबारा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

-एन 95 मास्क वाल्व वाला होता है, अगर आप बिना वाल्व के उपयोग करना चाहिए। क्योंकि इससे हवा बाहर और अंदर आती-जाती रहती है, जिससे संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है। वैसे इस मास्क का यूज हेल्थ केयर से जुड़े लोग ही करते हैं और इस मास्क को सबसे ज्यादा सुरक्षित माना जाता है।

-कोरोना काल में ज्यादातर लोग कपड़े से बने हुए वाले मास्क का इस्तेमाल करते हुए दिख जाते हैं। दरअसल, कपड़े से बना हुआ मास्क सुरक्षित और आरामदायक दोनों होता है। लेकिन इस बात को ध्यान में रखें ये मास्क तीन लेयर वाला होना चाहिए। आप चाहें तो इस मास्क के ऊपर सर्जिकल मास्क पहन सकते हैं। कपड़े के मास्क को धोकर दोबारा यूज में लाया जा सकता है, लेकिन एक समय के बाद इसे बदल लेना चाहिए।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending