60 प्रतिशत लोगों की आवाज को दबाया जा रहा है हमे जनता के मुद्दे उठाने का मौका नहीं दे रहे: राहुल गांधी

गुरुवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और कई अन्य विपक्षी दलों के नेताओं ने कथित तौर हुई महिला सांसदों के धक्का-मुक्की की घटना को ‘लोकतंत्र की हत्या’ करार दिया। राहुल गांधी ने यह आरोप भी लगाया कि राज्यसभा में सांसदों की पिटाई की गई और इस संसद सत्र में देश के 60 प्रतिशत लोगों की आवाज को दबाया गया, अपमानित किया गया तथा विपक्ष को जनता के मुद्दे उठाने का मौका नहीं दिया गया।

विपक्षी दलों ने पेगासस जासूसी मामला और केंद्रीय कृषि कानूनों के मुद्दों को लेकर सरकार के खिलाफ भी प्रदर्शन किया। राहुल गांधी ने कहा, “संसद सत्र पूरा हो चुका है। जहां तक देश के 60 फीसदी हिस्से की बात है तो उनके लिए कोई सत्र नहीं था क्योंकि इन 60 फीसदी लोगों की आवाज को दबाया गया, अपमानित किया गया और कल राज्यसभा में पीटा गया।”

उन्होंने आरोप लगाया, “हमने पेगासस मामले पर चर्चा की मांग की, सरकार ने इनकार कर दिया। हमने किसानों, महंगाई का मुद्दा संसद के बाहर उठाया क्योंकि अंदर नहीं उठा नहीं सकते। आप लोगों (मीडिया) के सामने बात कर रहे हैं क्योंकि अंदर नहीं बोलने नहीं दिया जाता। यह हमारे देश में लोकतंत्र की हत्या से कुछ कम नहीं है।”

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए दावा किया, “देश के प्रधानमंत्री इस देश को बेच रहे हैं। वह देश की आत्मा दो-तीन उद्योगपतियों को बेच रहे हैं। “उन्होंने आरोप लगाया कि राज्यसभा के भीतर सांसदों को पीटा गया है। वहीं बुधवार की घटना को लेकर राहुल गांधी ने वेंकैया नायडू पर हमला बोलते हुए कहा की, सभापति को सदन चलाना होता है, उन्होंने क्यों नहीं चलाया? विपक्ष को अपनी बात रखने का मौका नहीं दिया गया।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending