उत्तर प्रदेश: किसान महापंचायत की बैठक आज, हाई-अलर्ट पर यूपी पुलिस, टिकैत बोले- रोकने का प्रयास ना करें

केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा फिर से एक्शन मोड में नजर आ रहा है। संयुक्त किसान मोर्चा ने आज उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में किसान महापंचायत का आयोजन किया है। इस महापंचायत के कारण किसान नेता राकेश टिकैत का आज पूरे 10 महीने बाद मुजफ्फरनगर जाना होगा। महापंचायत शुरू होने से पहले उनका एक बयान सामने आया है जिसमें उन्होंने कहा कि जब तक काले कानूनों की वापसी नहीं होगी तब तक वे घर वापसी नहीं करेंगे। 

महापंचायत शुरू होने से पहले टिकैत ने कहा, “जब से आंदोलन शुरू हुआ है तब से मैं पहली बार मुजफ्फरनगर जा रहा हूं और वो भी गलियारे से जाउंगा। वहां की जमीन पर कदम भी नहीं रखूंगा और अपने घर की तरह देख लूंगा, वहां के लोगों को देख लूंगा।” उन्होंने कहा कि इसे आप जो भी मानें, लेकिन जब तक कानून वापसी नहीं होगी तब तक घर वापसी नहीं। जो लोग आजादी की लड़ाई के लिए लड़े, उन्हें काला पानी की सजा हुई तो वो कभी घर गए ही नहीं। ये भी एक प्रकार का काला कानून है और जब तक इसकी वापसी नहीं होगी तब तक घर नहीं जाएंगे।

किसान नेता राकेश टिकैत ने रविवार को होने वाली किसान महापंचायत को लेकर कहा है कि इस कार्यक्रम में कितने किसान पहुंचेंगे यह बता पाना संभव नहीं है। लेकिन काफी बड़ी संख्या में किसान इस महापंचायत में शामिल होंगे और उन्हें इस कार्यक्रम में शामिल होने से कोई नहीं रोक सकता है और अगर रोकने का प्रयास किया जाएगा तो हम तोड़कर आगे बढ़ जाएंगे।

राकेश टिकैत ने बताया की महापंचायत में व्यवस्था बनाए रखने के लिए करीब 5000 वालंटियर्स लगाए गए हैं। साथ ही किसी प्रकार की आपात सूचना के लिए इमरजेंसी नंबर भी जारी किया गया है। इसके अलावा कार्यक्रम स्थल के पास करीब 15 बड़े स्क्रीन भी लगाए गए हैं। ताकि कार्यक्रम में शामिल हुए सभी लोग किसान नेताओं के भाषण को सुन सकें। साथ ही मुख्य कार्यक्रम स्थल के अलावा भी चार – पांच मैदान की व्यवस्था की गई है। ताकि महापंचायत में शामिल होने आए किसानों को कोई समस्या ना हो।

इस महासभा में आज सुबह से ही किसानों को हुजुम आना शुरू हो गया है। एक महिला किसान ने बताया, “हम यहां 3 कानूनों को वापस कराने के लिए इकट्ठा हुए हैं। पीएम से हमारा अनुराध है कि इस आंदोलन को 9 महीने हो गए हैं इससे और न बढ़ाएं तथा 3 कानूनों को वापस लें।” संयुक्त किसान मोर्चा का दावा है कि ये किसानों की अब तक की सबसे बड़ी पंचायत होगी। जो जीआईडी ग्राउंड पर सुबह 11 बजे से शुरू होगी और इसमें किसानों के कई बड़ें नेता शामिल होंगे। सुरक्षा के मद्देनजर यहां पूरा अलर्ट जारी है। 

आज होने वाली इस महापंचायत के लिए बड़ी संख्या में किसानों का जत्था गाजीपुर बार्डर, सिंघु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर से मुजफ्फरनगर के लिए निकल चुका है। संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर बुलाए गए इस किसान महापंचायत में शामिल होने के लिए पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, केरल, तमिलनाडु समेत कई राज्यों से आए किसान जुटने शुरू हो गए हैं। इस महापंचायत को अधिकांश गैर- भाजपा दलों का समर्थन प्राप्त है। बता दें कि इस महापंचायत को देखते हुए यूपी पुलिस प्रशासन हाई-अलर्ट पर है। मुजफ्फरनगर और आस-पास के इलाकों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इतना ही नहीं प्रशासन ने मुजफ्फरनगर और उसके आसपास के जिलों में आईपीएस भेजे गए हैं। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending