अलसी का करें इस तरह प्रयोग, 72 की उम्र में भी दिखेंगे जवां, जानिए इसके हैरतअंगेज फायदे

आज हम आपको बताएंगे अलसी के बीज (flax seeds) के हैरतअंगेज फायदे। अगर आप मोटापे से परेशान हैं या फिर त्वचा संबंधित बीमारी के शिकार हैं तो अलसी का सेवन कीजिए। इनका नियमित सेवन करके आप कई गंभीर बीमारियों से बच सकते हैं। वैसे तो इसका सेवन सभी लोग कर सकते हैं, लेकिन अगर आप किसी भी तरह की शारीरिक समस्या से जूझ रहे हैं तो अलसी का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अलसी में पाए जाने वाले पोषक तत्व
अलसी में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट,फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, माइक्रोग्राम फोलेट और माइक्रोग्राम ल्यूटिन और जीएक्‍सेंथिन होता है, जो स्वस्थ्य शरीर के लिए बेहद जरूरी माना जाता है।

किस वक्त खाएं अलसी
आप अलसी को खाली पेट खा सकते हैं। इसके अलावा रात में सोने से पहले भी अलसी का सेवन किया जा सकता है, क्योंकि यह अच्छी नींद लाने में भी मदद करती है।

अलसी का काढ़ा
दो चम्मच अलसी के बीजों को दो कप पानी में मिक्स करें और आधा रह जाने तक उबालें। तैयार काढ़ा छान लें और थोड़ा ठंडा होने पर पिएं। 

अलसी से होने वाले फायदे:-

1. यह शरीर के अतिरिक्त वसा को भी कम करती है, जिसे आपका वजन कम होने में सहायता मिलती है। 
2. अलसी में अल्फा लाइनोइक एसिड पाया जाता है, जो ऑथ्राईटिस, अस्थमा, डाइबिटीज और कैंसर से लड़ने में मदद करता है। खास तौर से कोलोन कैंसर से लड़ने में यह सहायक होता है।  3. सीमित मात्रा में अलसी का सेवन, खून में शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है। इससे शरीर के आंतरिक भाग स्वस्थ रहते हैं, और बेहतर कार्य करते हैं। 
4. इसमें उपस्थित लाइगन नामक तत्व, आंतों में सक्रिय होकर, ऐसे तत्व का निर्माण करता है, जो फीमेल हार्मोन्स के संतुलन को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 
5. अलसी में मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट्स और फाइटोकैमिकल्स, बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करती है, जिससे त्वचा पर झुर्रियां नहीं होती और कसाव बना रहता है। इससे त्वचा स्वस्थ व चमकदार बनती है।  
6. अलसी में ओमेगा-3 भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो रक्त प्रवाह को बेहतर कर, खून के जमने या थक्का बनने से रोकता है, जो हार्ट-अटैक का कारण बनता है। यह रक्त में मौजूद कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी सहायक है।
7. शाकाहारी लोगों के लिए अलसी, ओमेगा-3 का बेहतर विकल्प है, क्योंकि अब तक मछली को ओमेगा-3 का अच्छा स्त्रोत माना जाता था,जिसका सेवन नॉन-वेजिटेरियन लोग ही कर पाते हैं। 
8. यह प्राकृतिक रूप से आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने का काम करता है। इससे हृदय की धमनियों में जमा कोलेस्ट्रॉल घटने लगता है, और रक्त प्रवाह बेहतर होता है, नतीजतन हार्ट अटैक की संभावना नहीं के बराबर होती है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending