यूपी का कानपुर बना जिहादियों का केंद्र…घर घर लगाए पोस्टर ‘या तो इस्लाम कुबूल करो या घर खाली करो’

चंद सालो पहले यूपी के कैराना से हिंदुओं के पलायन का जो वाक्या सामने आया था। आज सालो बाद यूपी का कानपुर भी उसी स्थिति में आकर खड़ा हो गया है। जहां मुस्लिम बहुल इलाकों में हिंदुओं को डरा धमकाकर या तो उनका धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है या फिर उन्हे मोहल्ला छोड़ने के लिए ही मजबूर कर दिया जा रहा है। आलम यह है की पीड़ित हिंदू परिवारों ने बाहर निकलना ही बंद कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक कानपुर के कर्नलगंज थाना क्षेत्र से मुस्लिम समुदाय के लोगों के खौफ के कारण हिंदू परिवार पलायन को मजबूर हो रहे हैं। पीड़ित हिंदू परिवारों ने इस मामले में सपा विधायक पर भी गंभीर आरोप लगाये हैं।दरअसल, कानपुर के कर्नलगंज थाना क्षेत्र के अंतर्गत रेल पत्री इलाके में कुल 10 हिंदू परिवार रहते हैं। जिनका कहना है की हिंदुस्तान में रहते हुए भी उनके साथ पाकिस्तान जैसा व्यवहार किया जाता है।

पीड़ित हिंदू परिवारों के मुताबिक यहां के बहुसंख्यक मुस्लिम समुदाय के लोग उनको लगातार धर्मांतरण करने के लिए दबाव बनाते रहते है। इतना ही नहीं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कट्टरपंथियों ने शनिवार रात एक हिंदू परिवार की बेटी के साथ मोहल्ले में छेड़छाड़ भी की और आस पास के लोगो और पीड़ित लड़की के परिजनों द्वारा मना करने पर घर में घुसकर मारपीट और दुष्कर्म का प्रयास भी किया गया था।

इस मामले में पुलिस ने 9 नामजद और 3 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया था। तीन लोगों को पुलिस ने पकड़ा था। पीड़ित परिजनों का कहना है कि आरोपी बेल पर छूट कर घर आ रहे हैं तथा उनको धमका रहे हैं। इनसे हमें जान का खतरा है। पीड़ित लोगों ने अपने घर के दरवाजे पर बोर्ड टांग दिए हैं कि वह यहाँ से पलायन कर रहे हैं। पीड़‍ितों का कहना है कि मोहल्ले के दबंग उनसे दो ही बात करते थे या तो जबरन इस्लाम धर्म कबूल कर लो या फिर मोहल्ला छोड़ दो। वह जबरन दूसरे धर्म को नहीं अपनाएंगे।

इसलिए उन्होंने मोहल्ला छोड़ने का फैसला किया है और अब वह इस मोहल्ले से बहुत जल्द कहीं और चले जाएंगे, क्योंकि उन्हें अपनी और अपने परिवार की जान का खतरा मंडरा रहा है। धर्मान्तरण न करने पर पलायन के दबाव मामले पर पुलिस कमिश्नर असीम अरुण का बयान सामने आया है। असीम अरुण ने कहा है कि धमकी मिलने के मामले में एफआईआर दर्ज की जा रही है। माहौल खराब करने वालों के खिलाफ गैंगस्टर और NSA के तहत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि कानपुर का कोई भी नागरिक जहां चाहे वहां रहने के लिए स्वतंत्र है। पुलिस कमिश्ननर ने डीसीपी वेस्ट संजीव त्यागी को जांच के लिए भेजा है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending