दिल्ली दंगो के मुख्य आरोपी उमर खालिद ने दायर की जमानत याचिका, कहा- बिना किसी तथ्यात्मक आधार के आरोप लगाये गए हैं

शुक्रवार को दिल्ली दंगो के आरोपी उमर खालिद ने अदालत से जमानत की मांग करते हुए कहा कि उसके खिलाफ आरोपपत्र किसी वेब सीरीज या टीवी समाचार की पटकथा की तरह हैं। उसने पुलिस पर निशाना साधने के लिए हैरी पॉटर के खलनायक पात्र वोल्डमॉर्ट का भी जिक्र किया। उसकी ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता त्रिदीप पाइस ने अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अमिताभ रावत से कहा कि आरोपपत्र में उनके मुवक्किल के खिलाफ बिना किसी तथ्यात्मक आधार के बढ़ा-चढ़ाकर आरोप लगाये गये हैं और आरोपपत्र का मसौदा, उसे तैयार करने वाले पुलिस अधिकारी की कपोल कल्पना का परिणाम हैं।

वकील ने आरोपपत्र के संदर्भ में हैरी पॉटर श्रृंखला की किताबों या फिल्मों के खलनायक चरित्र वोल्डमॉर्ट का भी जिक्र किया और आरोप लगाया कि पुलिस द्वारा दायर अंतिम रिपोर्ट ‘बकवास’ है। वकील ने दलील दी, आरोपपत्र उस पुलिस अधिकारी की कपोल कल्पना का नतीजा हैं जिसने इसे तैयार किया। वह कोई फैमिली मैन (एक वेब सीरीज) की पटकथा नहीं लिख रहे। यह आरोपपत्र है।

आरोपपत्र में लिखी एक पंक्ति कि “उमर ने दिल्ली से एक सुरक्षित दूरी बनाकर रखी क्योंकि उसे पता था कि इससे वह खतरे में पड़ जाएगा” का जिक्र करते हुए वकील ने कहा कि पुलिस अफसर यह केवल तभी जान सकते हैं जब वह खालिद के दिमाग में घुसे हों।

गौरतलब हो की फरवरी 2020 मे दिल्ली दंगो के आरोप में उमर खालिद को विधिविरुद्ध क्रियाकलाप निवारण कानून के तहत गिरफ्तार किया गया था। उमर खालिद जवाहर लाल नेहरु का छात्र रह चुका है। उमर खालिद पर फरवरी 2020 में हुये दंगों की साजिश रचने का आरोप है। मालूम हो की इन दंगों में करीब 53 लोगों की जान गयी थी जबकि 700 से अधिक घायल हुये थे। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending