सेहत के लिए वरदान है तुलसी का दूध, जानिए इसके चमत्कारिक फायदे

दूध में मौजूद पोषक तत्वों की वजह से दूध को अमृत के समान माना जाता है और तुलसी को औषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है जो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर कई रोगों से हमारी रक्षा करती है। इन दोनों का मिश्रण कर लिया जाएं, तो पोषण के साथ-साथ सेहत और उससे जुड़े कई फायदे पाए जा सकते हैं। क्या अपने कभी दूध में तुलसी की पत्तियाँ डालकर पी है? क्या आपको पता है इसके फायदे क्या हैं? अगर नहीं, तो देखिये यहाँ। इसके फायदे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। आइए आपको बताते हैं कि तुलसी और दूध (Tulsi Milk) मे कौन कौन से पोषक तत्व पाए जाते है इसे बनाने का सही तरीका और पीने का सही समय क्या है।

दूध में मौजूद पोषक तत्व
दूध प्रोटीन, कैल्शियम और राइबोफ्लेविन युक्त होता है, इनके अलावा इसमें विटामिन ए, डी, के और ई सहित फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, आयोडीन व कई खनिज और वसा तथा ऊर्जा भी होती है। इसके अलावा इसमें कई एंजाइम और कुछ जीवित रक्त कोशिकाएं भी हो सकती हैं।
तुलसी में मौजूद पोषक तत्व
तुलसी की पत्तियों में विटामिन और खनिज तत्व मौजूद होते हैं। इसमें मुख्य रूप से विटामिन सी, कैल्शियम, जिंक और आयरन आदि पाए जाते हैं। इसके साथ ही तुलसी में सिट्रिक, टारटरिक एवं मैलिक एसिड पाया जाता है।

ऐसे बनाएं तुलसी का दूध
तुलसी मिल्क बनाने के लिए आपको सबसे पहले डेढ़ गिलास दूध को उबालना है। दूध के उबलने पर इसमें 8 से 10 तुलसी की पत्तियां डालकर उसे और थोड़ी देर उबालना है जब दूध लगभग एक गिलास रह जाए तब गैस बंद कर दें। दूध के हल्का गुनगुना होने पर इसका सेवन करें। याद रखें इस दूध का नियमित सेवन करने से ही आपकी इम्यूनिटी स्टॉग बनेगी और आप कई तरह के रोगों से दूर रहेंगे।

आइए जानते है तुलसी से बने दूध के अचूक फायदे-

किडनी स्टोन होगा दूर- इससे यूरिक एसिड कम होता है और किडनी स्टोन धीरे-धीरे खत्म होने लगता है। 
कोल्ड की समस्या होगी दूर- तुलसी और दूध में एंटीबैक्टीरियल प्रोपर्टी होती हैं जो कि सूजे हुए गले, कोल्‍ड और ड्राई कफ को ठीक करती है। 
सिरदर्द दूर करेगा- दूध और तुलसी का मिश्रण सिरदर्द को दूर कर सकता है, रोजाना आप इस मिश्रण को पीएंगे तो धीरे-धीरे सिरदर्द जाता रहेगा।
फ्लू से बचाएगा- तुलसी में मौजूद एंटी-इन्फ्लेमेट्री तत्वों से फ्लू के लक्षणों को नष्ट करने में मदद मिलती है। जल्दी ही ये फ्लू को ठीक कर देता है। 
तनाव करता है कम- गर्म दूध में तुलसी मिलाकर पीने से नर्वस सिस्टम को आराम मिलता है और ये स्ट्रेस हार्मोन को नियंत्रि‍त करता है। ये एंजाइटी और डिप्रेशन से भी बचाता है।
अस्थमा में लाभ- अगर आप सांस संबंधी समस्याओं से परेशान हैं तो तुलसी मिल्क जरूर पिएं। बदलते मौसम से होनी वाली परेशानियों से यह घरेलू नुस्खा दूर रखता है।
दिल का रखता है ख्याल- दूध में तुलसी के पत्तों को उबालकर पीने से दिल भी स्वस्थ रहता है। रोजाना खाली पेट तुलसी मिल्क पीने से ह्रदय रोगियों को काफी फायदा मिलता है।
कैंसर से बचाता है- तुलसी और दूध दोनों ही एंटीऑक्सीडेंट्स और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं जो कि इम्यून सिस्टम मजबूत करते हैं, साथ ही कई तरह के कैंसर के सेल्स को पनपने से रोकते हैं। 
माइग्रेन से राहत- दूध में तुलसी के पत्ते उबालकर पीने से सिर दर्द या माइग्रेन जैसी बीमारियों में आराम मिलता है। अगर आप लंबे समय से इस समस्या से परेशान हैं हैं तो आप चाय की जगह रोजाना दूध में तुलसी के पत्ते डालकर पी सकते हैं।

तनाव व स्ट्रेस होता है दूर- तुलसी के पत्तों में न सिर्फ औषधीय गुण मौजूद होते हैं बल्कि इन पत्तियों में हीलिंग गुण भी शामिल होते हैं। यदि आप भी अपने ऑफिस के काम को लेकर टेंशन में हैं या फिर परिवार की कलह की वजह से डिप्रेशन जैसी समस्या से घिरे हुए हैं तो दूध में तुलसी की पत्तियों को उबालकर पिएं। ऐसा करने से डिप्रेशन की समस्या से उबरने में मदद मिलती है।
इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद- कोरोना महामारी के दौर में हर व्यक्ति अपनी इम्यूनिटी को बढ़ाने की तरफ ध्यान दे रहा है। कोई भी रोग आपको तभी घेर सकता है जब आपकी इम्यूनिटी कमजोर होती है। ऐसे में तुलसी के पत्तों में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स गुण शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करते हैं। इसके अलावा तुलसी में मौजूद एंटीबैक्टीरियल एवं एंटीवायरल गुण सर्दी, खांसी और जुकाम से भी दूर रखते हैं।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending