Tokyo Paralympics: प्रवीण कुमार ने 18 की उम्र में रचा इतिहास, जीता सिल्वर मेडल, पीएम मोदी ने दी बधाई

टोक्यो पैरालंपिक (Tokyo Paralympics) से भारत के लिए खुशखबरी आई है। टोक्यो पैरालंपिक में भारत की झोली एक और मेडल आया है। पुरुषों की हाई जंप टी-64 इवेंट के फाइनल में भारतीय खिलाड़ी प्रवीण कुमार ने सिल्वर मेडल पर कब्जा जमाया है। हाई जंप में भारत को मिला तीसरा मेडल है। इससे पहले पुरुषों की ही कैटेगरी में निषाद कुमार और मरियप्पन ने भी भारत के लिए सिल्वर जीता था। वहीं ओवरऑल अब तक जीता ये भारत का 11वां मेडल हैं, जिसमें से सिल्वर मेडल की संख्या 6 हो चुकी है।

उधर ग्रेट ब्रिटेन जोनाथन ब्रूम-एडवर्डस ने 2.10 मीटर की अंतिम छलांग के साथ स्वर्ण पदक जीता, जबकि पोलैंड के मैसील लेपियाटो ने 2.04 मीटर की छलांग लगाकर कांस्य पदक जीता। हालांकि प्रवीण इस मुकाबले में स्वर्ण पदक जीतने से चूक गए। एक समय प्रवीण गोल्ड मेडल जीतने के रेस में बनए हुए थे। लेकिन ब्रिटेन के ब्रूम एडवर्ड्स ने उन्हें पीछे कर दिया। जिसके बाद भारतीय एथलीट को सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने टोक्यो पैरालंपिक में पुरुष हाई जंप में भारतीय खिलाड़ी प्रवीण कुमार के रजत पदक जीतने पर ट्वीट कर प्रवीण कुमार को शुभकामनाएं दी हैं। पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा, “पैरालंपिक में रजत पदक जीतने पर प्रवीण कुमार पर गर्व है। यह पदक उनकी कड़ी मेहनत और अद्वितीय समर्पण का परिणाम है। उन्हें बधाई। उनके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं।”

बता दें की प्रवीण कुमार का एक पैर सामान्य रूप से छोटा है, लेकिन इसी को उन्होंने अपनी ताकत बनाया और आज इतिहास रच दिया। दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में कोच सत्यपाल सिंह की अगुवाई में प्रवीण कुमार ने लगातार ट्रेनिंग ली। खास बात ये है कि शुक्रवार को पैरालंपिक के जिस मुकाबले में प्रवीण कुमार ने सिल्वर मेडल जीता है, उसी में उन्होंने एशियन रिकॉर्ड भी स्थापित किया है। 2.07 मीटर ऊंची कूद के साथ हाई जंप में अब एशियन रिकॉर्ड हो गया है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending