स्ट्रेस से मुक्ति पाने के लिए आज से ही शुरू करें मेडिटेशन, होंगे कई बेमिसाल फायदे

तनाव ग्रस्त एवं चिंतित होने पर मेडिटेशन का अभ्यास करना सबसे बेहतर बताया जाता है। कुछ मिनट के मेडिटेशन कर लेने से आंतरिक शांति का अनुभव प्राप्त किया जा सकता है। इसका अभ्यास किसी भी उम्र का व्यक्ति कर सकता है। खास बात मेडिटेशन को करने के लिए इसे करने के लिए किसी विशेष उपकरण की जरूरत नहीं होती है। उल्टा मेडिटेशन करने के बहुत सारे लाभ होते हैं।

साथ ही इसे करने से दिमाग को शांति मिलती है और बॉडी रिलैक्स होती है। बता दें मेडिटेशन का अभ्यास कहीं भी किया जा सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार मेडिटेशन करने से लाइफ के प्रति अधिक सकारात्मक दृष्टिकोण प्राप्त हो जाता है। उदाहरण के लिए जैसे 3,500 से अधिक वयस्कों को दिए गए उपचारों की एक समीक्षा में पाया गया कि माइंडफुलनेस मेडिटेशन ने अवसाद के लक्षणों में सुधार किया।  

तनाव कम करे

अभी से नहीं बल्कि हजारों सालों से मेडिटेशन का अभ्यास किया जाता रहा है।  मेडिटेशन को एक तरह की मन-शरीर की पूरक औषधि माना गया है। दरअसल, मेडिटेशन विश्राम की एक गहरी अवस्था होती है, जो मन में शांति उत्पन्न करने में मदद करती है। मेडिटेशन करने के लिए एक जगह  ध्यान केंद्रित करना होता है  और उलझे हुए ऐसे विचारों से निकलने में सफल होते हैं, जो तनाव पैदा कर रहे होते हैं। इसका मतलब साफ है मेडिटेशन तनाव से छुटकारा दिलाने में सहायता करता है।

याददाश्‍त में होगा सुधार

सोच को बेहतर बनाए रखने के लिए और दिमाग को युवा रखने में मेडिटेशन सबसे ज्यादा मदद कर सकता है। ऐसे में रोजाना मेडिटेशन करने से बढ़ती उम्र में याददाश्‍त से संबंधित समस्‍याओं को दूर करने में लाभकारी होता है। वैसे मेडिटेशन मनोभ्रंश के रोगियों में कम से कम आंशिक रूप से स्मृति में सुधार कर सकता है।

इसके निरंतर अभ्‍यास से मन को स्थिर किया जा सकता है, इसके लिए अपनी गहरी, लंबी सांसों पर ध्यान लगाएं। इससे दिमाग वहां ध्यान लगाएगा और विचारों पर भी रोक लगेगी। इसके अलावा ध्यान बीच शरीर को ढीला छोड़े और किसी भी तरह का जोर या दबाव न डालें।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending