पश्चिम बंगाल में स्थित है दुनिया का सबसे विशालकाय बरगद का पेड़, पक्षियों की 80 प्रजातियां इस पेड़ पर करती हैं निवास

बरगद का पेड़ अपनी विशालता के लिए जाना जाता है. बरगद के पेड़ पर कई पशु पक्षी निवास करते हैं. इसके साथ ही बरगद का पेड़ धार्मिक दृष्टिकोण से भी काफी महत्वपूर्ण है. लेकिन क्या आपको पता है कि दुनिया का सबसे विशालकाय बरगद पेड़ कहां है ?

अगर नहीं तो आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे हैं और ये विशालकाय बरगद पेड़ गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी दर्ज है.बात अगर दुनिया के सबसे विशालकाय बरगद पेड़ की करें तो यह पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता की आचार्य जगदीश चंद्र बोस बोटैनिकल गार्डन में स्थित है. बताया जाता है कि बरगद का ये पेड़ 1778 में लगाया गया था . यह पेड इतना घना है कि इसे देखकर आपके होश उड़ जाएंगे. बताया जाता है कि जब इस पेड़ को लगाया गया था तब इसकी पेड़ की उम्र 20 साल की थी. इस पेड़ की शाखाएं और जोड़े ने पूरे गार्डन को ही घेर लिया है.

इस विशालकाय बरगद के पेड़ को देखकर ऐसा लगता है कि पूरी बोटैनिकल गार्डन में केवल यही एक बरगद का पेड़ हो.इसकी विशालता को देखने के लिए लोग दूर-दूर से यहां पहुंचते हैं. लोगों को यहां पहुंच कर एक अलग शांति का अनुभव होता है.

इस बरगद के पेड़ की विशाल को देखकर लगता है कि यह कोई जंगल हो. बात अगर इस पेड़ की ऊंचाई की करें तो करीब 24 मीटर ऊंचे इस पेड़ को देखकर हर कोई हैरान रह जाता है. वही यह पेड़ वर्तमान में 14500 वर्ग मीटर में फैला हुआ है और इसकी 3000 से अधिक शाखाएं हैं जो अब जड़ों में बदल चुकी हैं.बता दें कि इस विशालकाय बरगद के पेड़ को वाकिंग ट्री भी कहा जाता है. जैसा कि हमने आपको बताया कि बरगद के पेड़ पर कई प्रकार के पक्षी निवास करते हैं तो वहीं कोलकाता के इस बोटैनिकल गार्डन में स्थित बरगद का यह विशालकाय पेड़ कई प्रजाति की पक्षियों का घर है। आपको यकीन नहीं होगी कि इस विशालकाय बरगद के पेड़ पर 80 से ज्यादा प्रजातियों के पक्षियां निवास करती है.

यह पेड़ देखने में जितना विशाल है उतना मंजू मजदूर मजबूत भी.जब से ये बरगद का पेड़ यहां लगाया गया है तब से लेकर अब तक यहां कितने चक्रवाती तूफान आए पर किसी भी तूफान या फिर मौसम में इस पेड़ को कोई नुकसान नहीं पहुंचा .  इस पेड़ की शाखाएं लगातार फल फूल रही है. अपनी खूबियों को लेकर यह विशाल बरगद का पेड़ गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में भी अपनी जगह बना चुका है. गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में यह दुनिया का सबसे विशालकाय बरगद के पेड़ के रूप में दर्ज है. भारत सरकार ने 1987 में इस विशालकाय बरगद के पेड़ पर डाक टिकट भी जारी किया था.  बता दें कि इस पेड़ को बोटैनिकल सर्वे ऑफ इंडिया का प्रतीक चिन्ह भी माना जाता है.

इस विशालकाय बरगद के पेड़ को लेकर अक्सर लोग जानकारियां इंटरनेट पर ढूंढते हैं. वहीं विदेशों में भी इस विशालकाय बरगद के पेड़ का बोलबाला है. बरगद का यह पेड़ विदेशी सैलानियों को भी अपनी और आकर्षित करता है. कोलकाता के आचार्य जगदीश चंद्र बोस बोटैनिकल गार्डन में स्थित ये विशालकाय बरगद के पेड़ को देखने अक्सर विदेशी पर्यटक पहुंचते हैं जो इस पेड़ की विशालता को देखकर हैरान रह जाते हैं. अगर आप भी कभी कोलकाता जाए तो यहां स्थित जगदीश चंद्र बोस बोटैनिकल गार्डन में स्थित इस विशालकाय बरगद के पेड़ को देखना ना भूलें.

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending