इतिहास के पन्नों में दर्ज है महाराणा प्रताप और महारानी अजबदे की प्रेम कथा

इतिहास के पन्नों में कई राजा और महराजाओं के प्रेम की कहानियां दर्ज है. इन कहानियों को जानकर हमारी जानकारी में इजाफा होता है तो वहीं हम इतिहास से रूबरू भी होते है. इतिहास के पन्नों में मेवाड़ के राजा महराणा प्रताप का नाम स्वर्ण अक्षरों में दर्ज है. इतिहास में उनका नाम पराक्रम, शोर्य, त्याग, दृढ़ निश्चय के लिए अमर है. उनके पराक्रम की गाथाएं हर कोई जानता है. लेकिन क्या आप उनकी प्रेम कहानी के बारे में जानते है ?  

दरअसल, हम बात कर रहें हैं मेवाड़ के राजा महराणा प्रताप और महरानी अजबदे पंवार की प्रेम कहानी की. इतिहासकारों के अनुसार मेवाड़ के राजा महराणा प्रताप ने अपने जीवन में 11 शादियां की थी. महरानी अजबरे पंवार महराणा प्रताप की पहली और सबसे खास रानियों में से एक थी. महराणा प्रताप जब 17 साल के थे तब उनका विवाह अजबदे पंवार से हुआ था. विवाह के समय रानी अजबदे पंवार की उम्र 15 वर्ष थी. इतिहासकारों की माने तो महराणा प्रताप और अजबदे पंवार शादी के पहले से ही एक दूसरे को जानते थे. दोनों के बीच काफी अच्छी दोस्ती थी. 

दोनों के बीच विश्वास और सम्मान का भाव था. कहा जाता है कि यही कारण था की महराणा प्रताप मेवाड़ साम्राज्य से जुड़ी कई गोपनीय जानकरियां रान अजबदे के साथ साझा करते थे और कई मुद्दों पर उनकी राय भी लेते थे. कहा जाता है महराणा प्रताप को रानी अजबदे पंवार में अपनी मां जयंतीबाई की छाया दिखाई देती थी. महाराणा प्रताप  जब भी महारानी अजबदे पंवार को देखते थे उन्हें अपनी मां की याद आती थी। यही कारण था की महाराणा प्रताप के लिए महारानी अजबदे खास थी। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending