इस पेड़ के पत्ते होते हैं चमत्कारी, कई बाधाओँ और संकटों से दिलाते हैं मुक्ति

सनातन धर्म में अशोक का पेड़ काफी शुभ माना जाता है। अशोक की पत्तियों का प्रयोग धार्मिक कार्यों शादी विवाह में सजावट व अन्य आयोजनों में भी अशोक के पत्तियों का प्रयोग किया जाता है। वास्तु शास्त्र की मानें तो अशोक की पत्तियां बेहद फलदाई होती हैं। अशोक की पत्तियों को ज्योतिष शास्त्र में भी काफी लाभकारी माना गया है। इसलिए इसमें हम आपको अशोक की पत्तियों कि कुछ उपाय बताने जा रहे हैं जिनसे कई प्रकार के दुख कष्टों और कई बाधाओं से भी मुक्ति पाई जा सकती है। तो आइए इस बारे में जाने

1. ज्योतिषियों के मुताबिक अशोक की पत्तियों के बंदनवार को अगर घर के मुख्य द्वार पर लगाया जाए तो यह काफी अच्छा होता है। ज्योतिषियों के मुताबिक ऐसा करने से वास्तु दोष का निवारण हो जाता है और घर की नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है और सकारात्मक ऊर्जा का घर में आगमन होता है। ऐसे में अशोक की पत्तियों के बंदनवार को घर के मुख्य द्वार पर लगाना अत्यंत शुभ माना जाता है।

2. पति – पत्नी के बीच के झगड़े को दूर करने के लिए भी अशोक की पत्तियां काफी उपयोगी मानी गई है। दरअसल, अगर किसी पति पत्नी के बीच खूब झगड़ा होता है तो सात अशोक के पत्ते अपने बेड के गद्दे के नीचे रख देने से पति पत्नी में प्रेम व पुनः सब चीज ठीक होने लगती है। साथ ही घर में कलह का माहौल भी जल्द ही समाप्त हो जाता है।

3. अगर किसी पुरुष या महिला की शादी में बाधा आ रही है। कहने का अर्थ है कि लाख कोशिशों के बाद भी अगर शादी के लिए अच्छा रिश्ता नहीं मिल रहा या फिर रिश्ता मिल जाने के बाद भी कुछ बाधाओं के कारण विवाह नहीं हो पा रहा तो ऐसी स्थिति में भी अशोक के पत्ते मददगार होते हैं। दरअसल, अशोक के साथ पत्तों को एक कलश में पानी में भरकर भिगो कर रख देने और महीने बाद उस पानी को किसी बहती नदी में प्रवाहित कर देने से शादी में आ रही रुकावट और देरी दूर होती है।

4. अशोक की पत्तियों को तोड़कर उन पर कुमकुम लगाकर उन्हें रोजाना पूजा वाले जगह पर रख देने से भगवान प्रसन्न होते हैं जिससे घर में सुख समृद्धि का वास होता है। ऐसा करने से घर में आ रही कई परेशानियां दूर होती है और धीरे-धीरे हर बिगड़े काम भी बनने लगते हैं।

5.  ग्रह दोष को शांत करने के लिए भी अशोक के पत्ते काफी कारगर माने गए हैं। अगर कोई व्यक्ति ग्रह दोष से गुजर रहा है तो अगर वह अशोक के पेड़ की पत्तियों को तोड़कर उसे सुखाकर और उसके बाद इसे पीसकर रोजाना नहाने वाले पानी में मिलाकर नहाए तो इससे कई प्रकार की बीमारियां पैदा करने वाले ग्रह दोष शांत हो जाते हैं और व्यक्ति जल्द ही ठीक होने लगता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending