महंगाई से राहत मिलने की आस को फिर लगा झटका, थोक महंगाई दर में फिर दर्ज किया गया इजाफा

वर्तमान में चल रही महंगाई के बीच राहत की आस लगाए लोगों को एक बार फिर झटका लगा है। दरअसल, मई में थोक महंगाई दर में फिर से एक बार बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इस बढ़ोतरी के बाद थोक महंगाई दर 15.08 फ़ीसदी से बढ़कर 15.88 फ़ीसदी पर आ गई है। इसके साथ ही पिछले 14 महीने से थोक महंगाई दर दहाई अंक में दर्ज की जा रही है जिसमें अर्थशास्त्रियों को सोचने पर मजबूर कर दिया है।

इससे पहले ही अनुमान लगाया गया था कि मई में थोक महंगाई दर 15.50 के आसपास रह सकती है लेकिन अनुमान के परे जाकर थोक महंगाई दर 15.88 फ़ीसदी पर जा पहुंची है। बता दें कि खाने-पीने की वस्तुओं जैसे कि आलू, सब्जियों, अंडे तथा मांस में की थोक कीमतों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है। तो ही खाने की तेल, प्याज की थोक कीमतों में थोड़ी नरमी देखी गई है। मई 2022 में खाद्य पदार्थों की थोक मूल्य में बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

अभी तक ये 8.88 फ़ीसदी पर थी जो कि अब 10. 89 फ़ीसदी पर पहुंच गई है। मई 2022 में फ्यूल एंड पावर के थोक महंगाई दर में भी इजाफा देखा गया है जहां ये 38.66 फ़ीसदी से बढ़कर 40.62 फ़ीसदी पर आ गई है। वही मई के महीने में सब्जियों की थोक दर में काफी इजाफा दर्ज किया गया है। दरअसल अप्रैल में सब्जियों की थोक महंगाई दर 23.24 फ़ीसदी था तो वहीं मई के महीने में ये बढ़कर 5 6.36 पर आ गया। वर्तमान में जारी महंगाई ने लोगों के बजट पर भी असर डाला है।जिस प्रकार से खाद्य पदार्थों की वस्तुओं के थोक मूल्य में बढ़ोतरी दर्ज की गई है उससे ये चीजें आम आदमी तक पहुंचते-पहुंचते काफी महंगी हो जा रही है। AOh14GjyWbLxj ScMsbQdYdysA2HiV HwSVaJaPoVSp =s40 pReplyForward

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending