कोरोना के खिलाफ लड़ाई को मिली वैक्सीन की रफ्तार

भारत सहित पूरी दुनिया में तबाही मचाने वाले खतरनाक कोरोना वायरस के अंत की शुरवात इस वायरस के खिलाफ टीकाकरण के साथ शुरू हो गई है. भारत में कोविड – 19 के खिलाफ वैक्सीनेशन के पहले फेज की शुरवात 16 जनवरी से हुई जहां इसके तीसरे दिन यानि सोमवार को करीब 1.5 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाई गई. इसमें डॉक्टर, नर्स, और स्वास्थयकर्मि शामिल है. अब तक 3,81,305 लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा चुका है. वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू होने के बाद से ही देश में उत्साह का माहौल है. हां ये जरूर है कि वैक्सीन को लेकर विपक्ष द्वारा कई सवाल भी खड़े किए गए. सोमवार को देश के 25 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में टीकाकरण का अभियान चला जिसमें लाभार्थियों ने बढ़ –  चढ़कर हिस्सा लिया. सोमवार को वैक्सीन लेने वाले लाभार्थियों में सबसे ज्यादा कर्नाटक के लाभार्थि शामिल थे. बात अगर कोरोना वैक्सीन के प्रभाव की करे तो अवर स्वास्थय सचिव द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक अब तक वैक्सीन लेने वाले लोगों में से 580 में ही टीके का प्रतिकूल प्रभाव देखने को मिला है और केवल 7  लोगों को हास्पिटलाइज करने की नौबत आई है. यानि कुल मिलाकर सरकार फिलहाल ये दावा कर रही है की कोरोना टीकाकरण अब तक सफल हैं और इसका फिलहाल कोई दुष्प्रभाव नहीं देखने को मिला है. कोरोना टीकाकरण को लेकर बीच में कुछ लोगों के मन में संदेह भी देखने को मिला था और अब भी कुछ लोगों के मन में संदेह है. खैर जो भी हो सरकार ने वैक्सीनेशन की प्रकिया शुरू कर दी है और इसके पहले फेज में अब तेजी आ रही है. वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही लोगों में ये आस जगी हैं कि लोगों को अब इस महामारी से छुटकारा मिलेगा. कोरोना टीकाकरण की प्रक्रिया धीरे – धीरे तेज होती जा रही है जिससे इस महामारी से निपटने की दिशा में सरकार की कोशिशें साफ दिखाई देती है. टीकाकरण की प्रक्रिया तेज होती जा रही हैं और कोरोना के खिलाफ लडाई भी. 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending