तालिबान ने पाकिस्तान को सुनाई जमकर खरी खोटी, कहा- पाकिस्तान हो या कोई दूसरा देश, किसी को अधिकार नही….

अफगानिस्तान में बनी तालिबान सरकार पर पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान की टिप्पणियों को लेकर तालिबान ने अपना रूख साफ कर दिया है। तालिबान का बड़ा भाई बनने की कोशिश कर रहे पाकिस्तान को तालिबान ने दो टूक लफ्जों में साफ कह दिया है कि समावेशी सरकार के लिए उस पर दबाव नहीं डाला जा सकता। तालिबान ने कहा कि अफगानिस्तान में एक ‘समावेशी’ सरकार स्थापित करने के लिए कहने का किसी देश को कोई अधिकार नहीं है।

तालिबान के प्रवक्ता और उप सूचना मंत्री जबीहुल्ला मुजाहिद ने यह बात तब कही है जब पाकिस्तान और कई अन्य देश अफगानिस्तान में समावेशी सरकार बनाने की बात कह चुके हैं। मुजाहिद ने डेली टाइम्स को बताया, “पाकिस्तान या किसी अन्य देश को इस्लामिक अमीरात से अफगानिस्तान में ‘समावेशी’ सरकार स्थापित करने के लिए कहने का कोई अधिकार नहीं है।”

बता दें कुछ दिनों पहले इमरान खान ने कहा था कि अफगानिस्तान में समावेशी सरकार बनानी चाहिए जिससे सरकार में सभी समुदायों का प्रतिनिधित्व हो। हालांकि तालिबान को यह बात पसंद नहीं आई और उसने कहा है कि किसी देश को ऐसा कहने का हक नहीं है। इससे पहले, तालिबान के एक अन्य नेता, मोहम्मद मोबीन ने भी व्यक्त किया था कि अफगानिस्तान किसी को भी देश में ‘समावेशी सरकार’ का आह्वान करने का अधिकार नहीं देता है।

अफगानिस्तान के एरियाना टीवी पर एक डिबेट शो के दौरान उन्होंने कहा था की, “क्या समावेशी सरकार का मतलब सिस्टम में पड़ोसियों के अपने प्रतिनिधि और जासूस का होना है?” मुबीन ने कहा था- बाहर से कोई भी अफगानिस्तान और तालिबान की हुकूमत को नहीं चला सकता। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वो मुल्क हमारा पड़ोसी है या कोई और। मोबीन का यह बयान इस बात का पुख्ता संकेत है कि तालिबान ऐसी सरकार के आह्वान को स्वीकार करने के मूड में नहीं है जिसमें अन्य समूहों का प्रतिनिधित्व हो। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending