अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद तालिबान ने की पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस, अपने विरोधियों को माफ करने का किया ऐलान

अफगानिस्तान पर कब्जा जमाने के बाद तालिबान ने मंगलवार को पहली बार प्रेस कॉन्फ्रेंस की और अपना विरोध करने वालों को माफ करने की घोषणा की। यह घोषणा विश्व के नेताओं और डरे हुए लोगों को यह दिखाने का प्रयास है कि तालिबान अब बदल गया है। सिर्फ इतना ही नही तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्ला मुजाहिद ने मंगलवार को इस्लामी कानून के तहत महिलाओं के अधिकारों का सम्मान करने का वादा किया और सुरक्षित अफगानिस्तान सुनिश्चित करने की घोषणा की। 

जबीउल्ला मुजाहिद ने आगे कहा कि संगठन के लड़ाके किसी से बदला नहीं लेना चाहते और सभी को माफी दे दी गई है। मुजाहिद ने यह भी कहा कि तालिबान चाहता है कि निजी मीडिया ‘स्वतंत्र रहे’, लेकिन उसने इस बात को विशेष तौर पर रेखांकित किया कि पत्रकारों को देश के मूल्यों के खिलाफ काम नहीं करना चाहिए। यह सभी बातें तालिबानी प्रवक्ता मुजाहिद ने मंगलवार को अपने पहले संवाददाता सम्मेलन मे कही। 

उन्होंने वादा किया कि तालिबान अफगानिस्तान को सुरक्षित कर लेंगे। साथ ही कहा कि जिन लोगों ने पिछली सरकार या विदेशी सरकारों या बलों के साथ काम किया उनसे वह कोई बदला नहीं लेना चाहते। तालिबान ने कहा कि वे अन्य देशों के साथ शांतिपूर्ण संबंध चाहते हैं। अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में तालिबानी प्रवक्ता ने कहा की हम विश्वास दिलाते हैं कि कोई भी उनके दरवाजे पर यह पूछने नहीं जाएगी कि उन्होंने मदद क्यों की।

प्रवक्ता ने इस बात पर भी जोर दिया कि अफगानिस्तान किसी दूसरे देश को निशाना बनाने के लिए अपनी जमीन के इस्तेमाल की अनुमति नहीं देगा। मुजाहिद ने अनेक अफगान लोगों और विदेशी नागरिकों की मुख्य चिंताओं को भी दूर करने की कोशिश की और कहा कि महिलाओं को इस्लामी कानून के तहत अधिकार प्रदान किए जाएंगे।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending