स्वामीनाथन इंडिया एग्रीबिजनेस अवार्ड्स-2022 का आयोजन

औषधीय तथा सुगंधित पौधों की खेती हेतु देश का पहला “स्वामीनाथन इंडिया एग्रीबिजनेस अवार्ड्स-2022” भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) पूषा के शिंदे आगरा ऑडिटोरियम में भारतीय कृषि तथा खाद्य परिषद के तत्वावधान में आयोजित एक भव्य अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम “एग्रोवर्ल्ड -2022” में प्रदान किया गया। यह प्रतिष्ठित अवार्ड देश के कृषि राज्य मंत्री संजीव बालियान, डॉ. विलियम डार पू.‌ कृषि-सचिव, फिलीपींस, के हाथों , डॉ.अशोक दलवई अध्यक्ष किसानों की आय दोगुनी करने हेतु गठित भारत सरकार की टास्क फोर्स, प्रोफेसर रमेश चांद सदस्य नीति आयोग, एम.मुथू अध्यक्ष रोमन फोरम रोम इटली, डॉ एमजे ख़ान चेयरमैन इंडियन चेंबर ऑफ फूड एंड एग्रीकल्चर आदि की उपस्थिति में चैम्फ के राष्ट्रीय चेयरमैन डॉ. राजाराम त्रिपाठी को प्रदान किया गया।

क्या है चैम्फ:-

चैम्फ मुख्य रूप से जैविक औषधीय तथा सुगंधीय पौधों के किसानों की अलाभकारी राष्ट्रीय संस्था है जो कि मूलतः सहकारिता के सिद्धांत पर कार्य करती है। इसकी विधिवत शुरुआत  सन 2002 में छत्तीसगढ़ से हुई। पूरे देश में यह संस्था जैविक, हर्बल खेती के विकास, विस्तार,नवाचार , प्रशिक्षण, किसानों के लिए किसानों के द्वारा उच्च गुणवत्ता के बीज तथा प्लांटिंग मैटेरियल बैंक के विकास के कार्यों में लगातार लगी हुई है। इस संस्था का सबसे महत्वपूर्ण कार्य अपने सदस्य किसानों के द्वारा उगाए गए जैविक उत्पादों को एक सशक्त साझा विपणन प्लेटफार्म देना है जिससे कि जैविक जड़ी बूटियों, सुगंधीय पौधों, मसालों की खेती करने वाले किसानों को उनके कृषि उत्पादों का सही मूल्य प्राप्त हो सके और उन्हें बिचौलियों तथा बाजार की ताकतों के शोषण से बचाया जा सके। वर्तमान में इस संस्था से देश के 16 राज्यों के लगभग 34000 जैविक किसान सीधे जुड़े हुए हैं ,तथा इसके जैविक जागरूकता तथा उच्च लाभदायक कृषि विस्तार के कार्यक्रमों से देश के लाखों किसान लाभ उठा रहे हैं।

राष्ट्रीय संस्था के रूप में मान्यता प्राप्त

इसके राष्ट्रव्यापी कार्यों के महत्व को देखते हुए भारत सरकार के कृषि मंत्रालय ने सन 2005 में इस संस्था को जैविक किसानों की राष्ट्रीय संस्था के रूप में मान्यता प्रदान की। आज यह अपने तरह की जैविक हर्बल किसानों की देश की सबसे बड़ी संस्था है। देश का कोई भी किसान इनकी वेबसाइट www.chamf.org  से जुड़कर औषधीय सुगंधीय तथा उच्च लाभदायक खेती अपने उत्पादों के विपणन के बारे में निशुल्क जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। बस्तर तथा छत्तीसगढ़ के लिए यह विशेष हर्ष का विषय है कि अवार्ड हेतु चयनित इस राष्ट्रीय संस्था की शुरुआत छत्तीसगढ़ के कोंडागांव बस्तर के  किसान डॉ राजाराम त्रिपाठी के द्वारा ही किया गया था। डॉक्टर त्रिपाठी ने हर्बल की खेती की ढेर सारी परेशानियों तथा मुख्य रूप से इसके विपणन में आने वाली कठिनाइयों को देखते हुए अपने मुट्ठी पर किसान साथियों के साथ बहुत ही सीमित साधनों से इसकी शुरुआत की थी। 20 वर्षों के बाद वहीं नन्ही सी संस्था एक विशाल वटवृक्ष में बदल गई है क्योंकि इस संस्था का जन्म छत्तीसगढ़ के बस्तर से हुआ इसलिए चैम्फ को यह शीर्ष पुरस्कार प्राप्त होने से से देश भर में फैले चैम्फ के सदस्यों के साथ ही छत्तीसगढ़ तथा विशेष रूप से बस्तर के लोगों में भी बड़ा हर्ष व्याप्त है। इसके साथ ही देश विदेश से भी बधाई संदेश आ रहे हैं।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending