अजीब प्रथा :  बांग्लादेश में रहने वाली इस जनजाति में पिता ही बनता है बेटी का पति

इस दुनिया में कई प्रकार की संस्कृति और सभ्यताएं है. दुनिय में कई तरह की प्रथाएं और कुप्रथाए भी मौजूद हैं जिनके  बारे में जानकर कई बार लोग अपना सर पकड़ लते है. हमारे देश भारत में भी कई तरह की रीति – रिवाज मौजूद है जो सुनने में काफी अजीब लगती है. आज हम आपको पड़ोसी देश बांग्लादेश की मंडी जनजाति की एक ऐसी प्रथा के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे सुनकर आपके पैरों तले जमीन निकल जाएगी.

दरअसल, बांग्लादेश की मंडी जनजाति में एक पिता अपनी बेटी को पालता – पोशता तो जरूर है लेकिन जब वो बड़ी हो जाती है तो उससे शादी भी करता है. कहने का मतलब है कि पिता ही बेटी का पति बन जाता है. आपको सुनने में  ये काफी अजीब लगा होगा लेकिन ये सच है. दरअसल, मंडी जनजाति में जब कोई पुरूष कम उम्र की विधवा से शादी के बंधन में बंधता है तो तभी इस बात का फैसला कर दिया जाता है कि उसकी सैतेली बेटी उसकी बीबी बनेगी. ऐसे में एक बच्ची जो शुरू से जिस व्यक्ति को पिता बुलाती है उसे आगे चलकर उसे अपना पति बनाना पड़ता है.

ये प्रथा मंडी जनजाति के लोगों के बीच सदियों से चली आ रही है. इस कुप्रथा के लिए पिता का सौतेला होना जरूरी होता है. बता दे कि इस कुप्रथा के कारण मंडी जनजाति की कई बच्चियों का जीवन बरबाद कर दिया है. न चाहते हुए भी बच्चियों को अपने सौतेले पिता को पति बनाना पड़ता है.   

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending