खट्टी मीठी इमली के भी है लाजवाब फायदे…आप भी जरूर करें इसका सेवन, जानिए वजह

खट्टी मीठी इमली किसको पसंद नही होगी इसका नाम सुनते ही मुंह में लार आ जाती है। अमूमन इमली का इस्तेमाल हर चीज में हो सकता है गोलगप्पे से लेकर सांभर तक मे यह खाने का स्वाद बड़ा देती है। इसके अलावा, क्या आपको मालूम है कि इमली का इस्तेमाल कई गंभीर बीमारियों से बचाव कर सकता है। आयुर्वेद में भी इमली के फायदे एक या दो नहीं बल्कि ढेरों बताए गए हैं।

आमतौर पर हम सभी अपने घरों मे इमली की चटनी बनाते हैं, और बहुत चाव से खाते भी हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि इमली के सेवन से शरीर को अनेक फायदे होते हैं? क्या आप जानते हैं कि इमली के प्रयोग से कई रोगों की रोकथाम की जा सकती है? आइए जानते है की इमली के इस्तेमाल और उससे जुड़े औषधीय फायदे-

इमली

इमली का वैज्ञानिक नाम टैमेरिन्डस इंडिका है। वहीं, संस्कृत में इसे अमलिका और फारसी में तमर-ए-हिन्द नाम से जाना जाता है। यह बड़े पेड़ पर लगने वाली एक फली है। कच्ची इमली हरे रंग की होती है और पकने के बाद यह लाल रंग में परिवर्तित हो जाती है। इसका स्वाद केवल खट्टा या खट्टा-मीठा दोनों हो सकता है।

यह एक आहार है, लेकिन इसका इस्तेमाल एक औषधि के रूप में भी किया जाता है। कच्ची इमली एसिडिटी, वात-पित्त रोग और खून से संबंधित विकार में फायदेमंद होती है तो पकी इमली पाचनतंत्र, कफवात विकार में लाभ पहुंचाती है। इमली भारत, श्रीलंका, पाकिस्तान, नाइजीरिया और अफ्रीका जैसे देशों में ज्यादा पाई जाती है

इमली के अन्य भाषाओं में नाम

इमली का वानस्पतिक नाम टैमैरिन्डस इन्डिका है इसे संस्कृत में अमलिका और फारसी में तमर-ए-हिन्द कहा जाता है वहीं असम में इसे तेतैली, उड़ीसा में तेतुंली, कर्नाटक में अम्लिके, और गुजरात , तमिल में इसे आंबली और आम्लकम के नाम से जाना जाता है।

इमली के औषधीय गुण

यह आयुर्वेदिक दवा है इसका इस्तेमाल पेट दर्द, पेचिश, कब्ज, हेल्मिन्थस (कृमि) संक्रमण जैसी पेट से जुड़ी समस्याओं से बचाव में किया जा सकता है। वहीं, दूसरी ओर यह घाव भरने, मलेरिया, बुखार, सूजन और नेत्र रोगों में उपयोगी हो सकती है। इतना ही नहीं, इमली में लीवर सरंक्षण, ह्रदय संरक्षण और पेट साफ करने वाले गुण भी पाए जाते हैं। 

इमली के लाजवाब फायदे-

>> इमली की की छाल का पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से चेहर की झाइयां धीरे-धीरे कम होने लगती हैं। कान की समस्या होने पर इमली के रस को तेल में मिलाकर कान में डालने से फायदा होता है।
>> शरीर के किसी अंग में किसी प्रकार की सूजन होने पर एक कटोरी में गेहूं का आटा, इमली के पत्ते, इमली का रस, एक चुटकी नमक लेकर उबालें और जब यह लेप तैयार हो जाए तो इसे गर्म रहने पर ही सूजन वाले स्थान पर लगा लें। 

>> इमली में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स भी भरपूर मात्रा में होता है, जो मांसपेशियों के विकास के लिए फायदेमंद है। इसमें मौजूद थाइमि‍न नसों के सुचारू रूप से क्रियान्वयन और मांसपेशियों के विकास में मदद करता है।
>> दस्त लगने की समस्या में इमली के बीज काफी फायदेमंद होते हैं। इमली के सूखे हुए बीजों को पीसकर उसमें अदरक पाउडर और उसमें विशप घास और सेंधा नमक मक्खन मिलाकर दूध के साथ पीने पर लाभ मिलता है।

>> बवासीर की समस्या होने पर तेल और घी को समान मात्रा में लेकर उसमें इमली की पत्तियों को तल लें अब इसमें अनार के बीज, सूखा अदरक, धनिया पाउडर डालकर पकाने के बाद दही मिलाकर खाने से लाभ होता है। खूनी बवासीर में इमली के गूदे को दलिया के साथ खाने पर आराम मिलता है।
>> शरीर में रक्तसंचार को बेहतर बनाने और आयरन की कमी को पूरा करने में इमली सहायक होती है, जिससे शरीर में लाल रक्त कोशि‍काओं का निर्माण अधि‍क होता है, और आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

>> आंखों में दर्द या जलन की शिकायत होने पर भी इमली काफी मददगार होती है। ऐसा होने पर इमली के रस में दूध मिलाकर आंखों के बाहर लगाने से आराम मिलता है। आंखों में खुजली होने पर भी इमली असरकारक है।
>> विटामिन सी, ई और बी के अलावा इमली में कैल्शियम, आयरन, फास्फोरस, पोटेशियम, मैंगनीज और फाइबर भी भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स भी शामिल हैं, जो मिलकर आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद पैकेज की तरह साबित होते हैं।

>> अगर आपको भूख नहीं लगती तो फि‍क्र मत किजिए, इमली आपकी भूख का रास्ता जानती है। एक कटोरी पानी में उसमे गुड़, इमली का गुदा,दालचीनी और इलायची मिलाकर थोड़ा-थोड़ा चूसने से आपकी भूख खुल जाएगी और आप अच्छे से भोजन कर पाएंगे ।

>> पाचन प्रक्रिया को ठीक रखने के लिहाज से इमल बेहद फायदेमंद है। इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में होता है जो पाचन में मदद करता है। इसके अलावा कब्ज और डायरिया जैसी समस्याओं के उपचार में भी इमली बहुत फायदेमंद है। इमली के बीज को पीसकर इसके पाउडर को पानी के साथ लेने से भी लाभ होता है। 
>> अगर आप अपने वजन को लेकर सतर्क हैं और वजन कम करना चाहते हैं, तो इमली आपकी मदद कर सकती है। वजन घटाने के लिहाज से इसमें हाइड्रोऑक्साइट्रिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो शरीर में वसा को कम करने वाले इन्जाइम को बढ़ाता है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending