सिद्धू की ताजपोशी: माफी मांगने से पीछे हटे सिद्धू, 65 कांग्रेस विधायको का समर्थन लेकर भेजा अमरिंदर सिंह को न्यौता

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह को अपनी ‘ताजपोशी’ के लिए न्योते के साथ 65 विधायकों के हस्ताक्षर भेज दिए हैं। पूर्व क्रिकेटर रह चुके नवजोत सिंह सिद्धू ने अब फ्रंट फुट पर खेलना शुरू कर दिया है। बता दें कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू के सामने सार्वजनिक तौर पर माफी की शर्त रखी थी। जिसे उन्होंने अब तक पूरा नहीं किया है। 

ऐसे में सिद्धू ने उनके ’65 विधायकों’ को अपने पाले में लाकर ताकत दिखा दी है। माना जा रहा है कि सिद्धू के इस कदम से दोनों खेमों में तनातनी और बढ़ सकती है। कैप्टन अमरिंदर सिंह की आपत्तियों के बावजूद कांग्रेस हाईकमान की ओर से पंजाब में पार्टी की कमान सौपे जाने के बाद से सिद्धू लगातार अपनी टीम मजबूत करने में जुटे हैं। सिद्धू 23 जुलाई को नए अध्यक्ष का कार्यभार संभालेंगे।

ऐसे मे वह कांग्रेस के एक-एक विधायकों, मंत्रियों और वरिष्ठ नेताओं से जाकर मुलाकात कर रहे हैं। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि सिद्धू के सिर पर पार्टी हाईकमान का हाथ देखकर बड़ी संख्या में नेता उनके साथ आ चुके हैं। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम के लिए उन्होंने सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह को भी न्योता भेजा है। लेकिन आमंत्रण पत्र में उन्होंने 65 विधायकों के हस्ताक्षर भी करा दिए हैं।

जो इस बात की ओर इशारा करता है की सिद्धू कैप्टन अमरिंदर सिंह से माफी नहीं मांगने वाले है। बुधवार को जब वह 65 विधायकों के साथ स्वर्ण मंदिर में मत्था टेकने पहुंचे तो संदेश साफ था कि उन्होंने कैप्टन के खेमे में उन्होंने सेंध लगा दी है। 

राजनीतिक जानकारों का कहना है कि सिद्धू ने कैप्टन को यह जता दिया है कि उनके पाले में अधिकतर विधायक आ चुके हैं। सिद्धू के इस कदम को कैप्टन को चिढ़ाने के तौर पर भी देखा जा रहा है। माना जा रहा है कि पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी में रार कम होने की बजाय अभी और बढ़ेगी।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending