अफगानिस्तान के शिक्षा मंत्री बने शेख मौलवी नूरल्लाह ने दिया अजीबोगरीब बयान, बोले- आज के समय में पढ़ा लिखा होना जरूरी नहीं

अमेरिकी सेना की वापसी के बाद तालिबान ने 15 अगस्त को अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया था। लेकिन अब जाकर उसने अपनी सरकार का ऐलान किया है। तालिबान की नई सरकार में मुल्ला मुहम्मद हसन अखुंद नए प्रधानमंत्री हैं, जबकि मुल्ला अब्दुल गनी, मौलवी अब्दुल सलाम हनफी उप-प्रधानमंत्री बने हैं। इस बीच अफगानिस्तान के नए शिक्षा मंत्री बने शेख मौलवी नूरल्लाह मुनीर का एक अजीबोग़रीब बयान सामने आया है। जिसमे उन्होंने कहा कि आज के वक्त में PHD या किसी दूसरी मास्टर डिग्री की वैल्यू नहीं है।

मुनीर का कहना है कि आज मुल्ला और तालिबान सरकार में है, इनमें से किसी के पास कोई डिग्री नहीं है लेकिन फिर भी वो महान हैं। इसके आगे उन्होंने कहा, ऐसे में आज के वक्त में किसी तरह की पीएचडी या मास्टर डिग्री की ज़रूरत नहीं है। हालांकि, तालिबान ने अपनी सरकार का ऐलान करते हुए लोगों को भरोसा दिलाया है कि देश में इस्लामिक और शरिया कानून के तहत शिक्षा को बढ़ावा दिया जाएगा, आधुनिक शिक्षा को भी बल दिया जाएगा। तालिबान ने देश के स्कॉलर्स से किसी भी तरह ना घबराने को कहा है।

बता दें कि तालिबान ने सत्ता में आने से पहले ही शिक्षा के क्षेत्र में कई बदलाव करने शुरू कर दिए थे। कॉलेज में लड़के-लड़कियों के बीच में पर्दा डाल दिया गया। कई जगहों पर लड़कियों और महिलाओं को सिर्फ बुजुर्ग या महिलाएं ही पढ़ा रही हैं। इसके अलावा तालिबान उन निजी कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज पर नकेल कसना शुरू कर दिया है जिसने 2001 में तालिबान के शासन के खत्म होने के बाद आधुनिक शिक्षा पर बल दिया है।

तालिबान ने अपने फरमान में आगे लिखा है कि विश्वविद्यालय को अपनी सुविधाओं के अनुसार छात्राओं के लिए महिला शिक्षकों की भर्ती करने की जरूरत है। अगर ऐसा संभव नहीं है तो उन्हें ऐसे ‘बुजुर्ग पुरुषों’ को नियुक्त करने की कोशिश करनी चाहिए जिनका चरित्र अच्छा हो। महिलाओं को अब पुरुषो से अलग होकर पढ़ना होगा, इसलिए वो पुरुष छात्रों से 5 मिनट पहले अपना काम निपटा लें ताकि उन्हें बाहर पुरुषों का सामना न करना पड़े।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending