शारदीय नवरात्रि 2022 : छठे दिन होती है मां कात्यायनी की पूजा, जानिए पूजा विधी

1 अक्टूबर 2022 यानी कि आज शारदीय नवरात्रि का छठा दिन हैं। नवरात्रि के छठें दिन “ मां कात्यायनी “ की पूजा की जाती है। मां  कात्यायनी माता दुर्गा का छठा रूप हैं। नवरात्रि को लेकर पूरे देश में इस समय हर्ष और उल्लास का माहौल है और लोग मां वैष्णो की भक्ति में लीन हैं। जगह-जगह पर सुंदर पंडाल और नवरात्रि को लेकर कई प्रकार के आयोजन देखने को मिल रहे हैं। बात अगर नवरात्रि के छठें दिन की करें तो आज मां कात्यायनी की पूजा की जाती हैं। मां कात्यायनी की पूजा करने से जीवन के सभी काल और कष्ट दूर होते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि मां कात्यायनी की पूजा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती हैं। मां कात्यायनी का स्वरूप चमकीला और तेज में हैं। इनकी चार भुजाएं होती है और दाईं तरफ का ऊपर वाला हाथ अभय मुद्रा में रहता है। वहीं नीचे वाला हाथ वर मुद्रा में रहता हैं। मां कात्यायनी अपने बाएं तरफ के ऊपर वाले हाथ में तलवार धारण करती हैं। मां कात्यायनी के नीचे वाले हाथ में कमल का फूल सुशोभित रहता है। मां कात्यायनी की पूजा करने से परम पद की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं मां कात्यायनी की पूजा विधि।

पूजा विधी

नवरात्रि के छठें दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है। मां कात्यायनी माता दुर्गा का छठा रूप है। नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा करने के लिए आप सुबह – सुबह स्नाना आदि कार्यो से निवृत्त हो जाना चाहिए।  इसके बादे देवी कात्यायनी का ध्यान करते हुए उनके समक्ष धूप दीप प्रज्वलित करना चाहिए। इसके बाद रोली से मां का तिलक करें और अक्षत अर्पित कर उनका पूजन करें। नवरात्रि के छठें दिन मां कात्यायनी को गुड़हल या लाल रंग का फूल चढ़ाना अति शुभ माना जाता है। इसके बाद मां कात्यायनी की आरती करें। मां कात्यायनी को पूजा में शहद का भोग लगाना चाहिए। माना जाता है इससे मां प्रसन्न होती हैं और भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती हैं। बता दें कि जैसे-जैसे नवरात्रों के दिन बीत रहे हैं भक्तों और पूरे देश में नवरात्रि को लेकर उत्साह और भी बढ़ता जा रहा है।

ACNPEu8CrPKnWxScJDj1aXwoPNPbneLF6ocOFUHJkOe6=s40 pReplyForward

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending