कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ऑस्कर फर्नांडिस का निधन, 80 की उम्र में ली अंतिम सांस, लंबे वक्त से थे अस्पताल भर्ती

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ऑस्कर फर्नांडिस का सोमवार को निधन हो गया। ऑस्कर फर्नांडिस ने कर्नाटक के मंगलुरु में आखरी सांस ली। इसे लेकर अस्पताल की ओर से पुष्टि कर दी गई है। जिसके बाद जल्द ही बयान भी जारी किया जाएगा। बता दें, 80 साल के ऑस्कर फर्नांडिस काफी लंबे समय से बीमार थे। कुछ हफ्तों से वो मंगलुरु के अस्पताल में भर्ती थे। इसी साल योग करने के दौरान उन्हें चोट भी लग गई थी, जिससे उनकी तबीयत खराब हो गई थी।

ऑस्कर फर्नांडिस को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी के करीबियों में से एक माना जाता था। फर्नांडिस यूपीए सरकार में सड़क-परिवहन मंत्री का पद संभाल चुके हैं। वो अभी भी राज्यसभा के सांसद थे। यूपीए सरकार के दोनों कार्यकाल में मंत्री रह चुके ऑस्कर फर्नांडिस लंबे समय से गांधी परिवार के साथ काम कर रहे थे। वो राजीव गांधी के संसदीय सचिव भी रह चुके हैं।

पीएम मोदी समेत कांग्रेस के तमाम नेताओं ने जताया शोक….

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑस्कर फर्नांडीस के निधन पर जताया दुख कहा, “राज्यसभा सांसद ऑस्कर फर्नांडीस के निधन से दुखी हूं। इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं और प्रार्थनाएं उनके परिवार और शुभचिंतकों के साथ हैं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें।”

कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ऑस्कर फर्नांडीस के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ। महान ज्ञान और दृढ़ संकल्प के व्यक्ति थे। वह कांग्रेस के सबसे दयालु और वफादार सैनिकों में से एक थे। ईश्वर नेक आत्मा को शांति प्रदान करें और परिवार को इस दुख को सहने की शक्ति दे।

वहीं कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, “ऑस्कर फर्नांडिस एक मार्गदर्शक और संगठन निर्माता थे। उनके जाने से कांग्रेस की बहुत बड़ी क्षति हुई है। शायद उनके जैसा कभी दूसरा कोई नहीं होगा।”

इसके साथ ही कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली ने कहा कि देश ने एक बड़ा नेता और पार्टी ने संकट मोचक खो दिया है।

केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने फर्नांडिस के निधन पर दुख जताते हुए ट्वीट किया, “वरिष्ठ नेता,पूर्व केंद्रीय मंत्री, सादगी की मिसाल ऑस्कर फर्नांडिस जी का निधन सामाजिक, सांस्कृतिक, सियासी क्षेत्र का बड़ा नुकसान,उनके परिवार, साथियों के प्रति भावभीनी संवेदना।”

1980 में पहली बार चुने गए सांसद

फर्नांडीस ने राजीव गांधी के संसदीय सचिव के रूप में भी कार्य किया। वह 1980 में कर्नाटक के उडुपी निर्वाचन क्षेत्र से 7वीं लोकसभा के लिए चुने गए थे। कर्नाटक के उडुपी से पांच बार के लोकसभा सांसद फर्नांडिस को 1999 का लोकसभा चुनाव हारने के बाद कांग्रेस ने राज्यसभा के लिए नामित किया था। “भाई ऑस्कर” के नाम से लोकप्रिय कांग्रेस नेता ने एनएससीएन नेताओं के साथ अपने तरीके से बातचीत की शुरुआत की थी, जहां प्रार्थनाओं से बैठक का आगाज होता था, जिसमें सभी उपस्थित होते हैं।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending