इंग्लैंड के वैज्ञानिकों ने विकसित किया याद्दश्त बढ़ाने वाला हेलमेट, अब दूर होगी भूलने की बीमारी, कीमत 7.5 लाख रुपए

इंग्लैंड के वैज्ञानिकों ने एक हेलमेट विकसित किया है और दावा किया है की इस हेलमेट के जरिए बुजुर्गों में भूलने की बीमारी (डिमेंशिया) को कंट्रोल किया जा सकेगा। हेलमेट विकसित करने वाले डॉ. गॉडर डूगल का कहना है, यह डिवाइस ‘फोटो बायोमॉडुलेशन’ की तरह काम करती है। इसके लिए मरीज को यह हेलमेट पहनाया जाता है। इससे निकलने वाली इंफ्रारेड किरणें दिमाग की गहराई तक पहुंचती है। 

आसान भाषा में समझें तो यह ब्रेन की मृत हो रही कोशिकाओं को रिपेयर करके उनकी काम करने की क्षमता को पहले से बेहतर बनाने का काम करता है। वैज्ञानिकों के अनुसार, इस हेलमेटनुमा डिवाइस की कीमत 7.5 लाख रुपए है। इसे विकसित करने वाली इंग्लैंड की डरहम यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों का मानना है की दिनभर में इसे दो बार 6-6 मिनट पहनने पर याद्दाश्त में इजाफा होने के साथ न्यूरॉन्स और ब्रेन स्किल्स में सुधार देखा गया।

शोधकर्ताओं का मानना है कि थैरेपी की मदद से ब्रेन नाइट्रिक ऑक्साइड का लेवल बढ़ता है और ब्लड सकुलेशन में भी इजाफा होता है। वैज्ञानिकों ने इसके ट्रायल में 13 लोगों को शामिल किया। ट्रायल से पहले और बाद में इनकी जांच की गई। रिसर्च रिपोर्ट में सामने आया कि इनके ब्रेन के काम करने की क्षमता और याद्दाश्त में इजाफा हुआ। शोधकर्ताओं का कहना है, रिसर्च में यह साबित हुआ है कि इंफ्रारेड लाइट ट्रीटमेंट डिमेंशिया से जूझने वाले मरीजों के लिए गेम चेंजिंग थैरेपी साबित हो सकता है। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending