वैज्ञानिकों ने विकसित किया सिल्क का कपड़ा, गर्मी में भी 12.5 डिग्री तापमान घटाने में होगा सक्षम

जापान के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा सिल्क का कपड़ा बनाकर तैयार किया है जो आपको कॉटन से भी ज्यादा ठंडा रखने में सक्षम होगा। जापानी वैज्ञानिकों का दावा है की यह सिल्क का कपड़ा कॉटन कपड़े की तुलना में 12.5 डिग्री सेल्सियस तक तापमान घटाने में सक्षम होगा। जो आपको गर्मियों के मौसम में भी राहत दिलाएगा। 

शोधकर्ताओं का कहना है, आमतौर पर सिल्क सूर्य की किरणों को परावर्तित करता है। इस खूबी को ध्यान में रखते हुए सिल्क में बदलाव करके ऐसा कपड़ा बनाया जो सूर्य की किरणों को 95 फीसदी तक परावर्तित (रेफ्लेक्ट) कर सके। क्योंकि कपड़ा जितना ज्यादा सूर्य की किरणों को परावर्तित करेगा और कम से कम इसे अवशोषित करेगा यह शरीर को उतना धूप के असर से बचाएगा व ठंडा रखेगा।

रिसर्च के मुताबिक, जब धूप में इस कपड़े की टेस्टिंग की गई तो पाया गया कि यह आसपास मौजूद हवा से भी 3.5 फीसदी तक ठंडा है। शोधकर्ताओं का कहना है, यह दुनिया का पहला ऐसा कपड़ा है जो हवा से भी ठंडा है। इस कपड़े में एल्यूमिनियम ऑक्साइड के नैनोपार्टिकल्स मिलाए गए हैं। इसलिए ये इंफ्रारेड, विजिबल और अल्ट्रावॉयलेट किरणों को परावर्तित करके शरीर से दूर रखता है।

इस खास तरह के सिल्क को ऐसे समझा जा सकता है की अगर आप 40 डिग्री सेल्सियस वाली धूप में यह सिल्क पहनकर खड़े हैं तो यह आपको 32 डिग्री सेल्सियस तापमान महसूस कराएगा। वहीं, कॉटन की तुलना में यह 12.5 डिग्री सेल्सियस कम तापमान महसूस कराता है। ट्रायल में यह साबित भी हुआ है।

इसे विकसित करने वाले स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी के शान्हुई फैन के अनुसार, इस कपड़े को इसलिए डिजाइन किया गया है ताकि गर्मियों के मौसम में बाहर जाने पर शरीर को ठंडा रख सके। उन्होंने कहा, “दुनियाभर में 15% बिजली का इस्तेमाल इंसान खुद को ठंडा रखने के लिए करता है। नए कपड़े की मदद से बिजली की डिमांड को कुछ हद तक कम किया जा सकेगा। यह बिना बिजली के शरीर को ठंडा रखने में मदद करेगा।”

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending