वैज्ञानिकों ने विकसित की नई तकनीक…..अब मूक बधिर भी सिग्नल के जरिए व्यक्त कर सकते है अपनी भावनाएं

अमेरिका के सैन डिएगो की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक ऐसी तकनीक विकसित की है जिसके जरिए मूक बधिर लोग भी अपनी भावनाएं इसके लिए जेबरा चिड़िया के ब्रेन सिग्नल का इस्तेमाल किया जाएगा। सिग्नल के जरिए व्यक्त कर सकते है। वैज्ञानिकों का मानना है की दोनो के ही ब्रेन सिग्नल में कई समानताएं मिलती है। 

फिलहाल इसकी टेस्टिंग जेबरा नाम की चिड़ियों पर की जा रही है। नर जेबरा चिड़िया जब गाना गा रही थी, तो वैज्ञानिकों ने सिलिकॉन इम्प्लांट्स की मदद से उसके ब्रेन सिग्नल को रिकॉर्ड कर लिया। फिर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से यह भविष्यवाणी की गई कि चिड़िया अगला गाना कौन सा गा सकती है।

वैज्ञानिकों ने दावा किया है की इन्ही सब भविष्यवाणी के जरिए उन सब लोगो की बाते को आसानी से समझा जा सकता है जो बोल पाने में सक्षम नहीं है। शोधकर्ता डेरिल ब्राउन का कहना है, चिड़ियों के ब्रेन सिग्नल ने न बोल पाने वाले लोगों के लिए नया रास्ता दिखाया है। हम बर्ड सॉन्ग का अध्ययन कर रहे हैं,

जो इंसानी कम्युनिकेशन को समझने में मदद करेगा। शोधकर्ताओं का कहना है, चिड़ियों का गाने का तरीका और इंसान की आवाज में कई समानताएं हैं। हम रिसर्च के दौरान किए गए प्रयोग से यह जान पाए हैं कि ब्रेन को समझकर कैसे उसकी आवाज बनाई जा सकती है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending