वैज्ञानिकों ने विकसित किया स्प्रिंग नुमा डिवाइस, प्रोस्टेट ग्लैंड से जूझ रहे पुरुषों लिए असरदार, रिकवरी होगी तेज

अमेरिकी कम्पनी जेनफ्लो के शोधकर्ताओं ने पुरुषों में प्रोस्टेट ग्लैंड के बढ़ने की समस्या को देखते हुए इसके इलाज के लिए एक स्प्रिंगनुमा डिवाइस तैयार की है। इस इम्प्लांट को प्रभावित हिस्से में लगाकर समस्या को घटा सकते हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक, पेपरक्लिप के आकार के स्प्रिंग इम्प्लांट को निकिल और टाइटेनियम से मिलकर बना गया है।

प्रोस्टेट के मरीजों को एनेस्थीसिया देने के बाद यह स्प्रिंग इम्प्लांट उस हिस्से में लगाया जाता है जहां समस्या होती है। यह स्प्रिंग मूत्रमार्ग के उस हिस्से को चौड़ा करता है जहां प्रोस्टेट ग्रंथि बढ़ी हुई ताकि पेशाब आसानी से निकल सके। इसे इम्प्लांट करने में 10 मिनट का समय लगता है। 

इम्प्लांट को एक पतली और लचीली ट्यूब (कैथेटर) की मदद से यूरेथ्रा के जरिए वहां लगाया जाता है, जहां पर दिक्कत है। इस ट्यूब में कैमरा लगा होता है जो इम्प्लांट को सही लोकेशन लगाने की जानकारी देता है। शोधकर्ताओं का दावा है कि इसके शुरुआती ट्रायल में मरीजों में तेज रिकवरी देखी गई है और साइडइफेक्ट भी नहीं सामने आए।

वर्ल्ड जर्नल ऑफ मेंस हेल्थ में पब्लिश रिसर्च कहती है, शुरुआती ट्रायल में यह इम्प्लांट सुरक्षित और असरदार साबित हुआ है। ब्रिस्टल के साउथमीड हॉस्पिटल में यूरोलॉजिकल सर्जन प्रो. राज प्रसाद कहते हैं, यह इम्प्लांट उन लोगों के लिए अच्छा विकल्प है जो सर्जरी नहीं करा सकते है या अनफिट हैं।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending