सत्तू देगा आपको गर्मी में ठंडक, डायबिटीज के साथ मोटापा भी होगा दूर

चिलचिलाती धूप और तेज गर्मी से अगर आप परेशान हैं तो सुबह के नाश्ते में सत्तू ट्राई कर सकते हैं। यह आपके पेट को पूरे दिन ठंढा रखेगा। बिहार और उत्तरप्रदेश के कई व्यंजनों में सत्तू का प्रयोग वर्षों किया जाता रहा है। लिट्टी चोखा, सत्तू के परांठे और सत्तू की कचौड़ी का नाम तो आपने जरूर सुना होगा। सत्तू से बने ये व्यंजन स्वाद और सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। वहीं कुछ लोग गर्मियों में सत्तू पानी में डालकर पीना ज्यादा पसंद करते हैं। यह आपको लू के थपेड़ों से भी बचाता है। सत्तू का प्रयोग कई रोगों को ठीक करने के लिए भी किया जाता है। सत्तू के सेवन करने से न सिर्फ डायबिटीज जैसे रोग ठीक होते हैं बल्कि मोटापे से भी छुटकारा मिलती है।

आइए जानते हैं कि सत्तू कैसे बनता है। मार्केट में तो वैसे कई तरह के सत्तू मिल जाएंगे, लेकिन चने का सत्तू लोग ज्यादा पसंद करते हैं। भुने हुए जौ और चने को पीस कर भी सत्तू बनाया जाता है। सत्तू पाउडर जैसा होता है जिसे आप गर्मियों में पानी में घोलकर स्वादानुसार नमक मिलाकर पी सकते हैं। सत्तू के प्रयोग से गैस्ट्रोइंट्रोटाइटिस नामक रोग भी कम हो हो जाते हैं। जौ और चने का सत्तू कफ, पित्त, भूख, प्यास, थकावट और आंखों से जुड़ी बीमारियों को दूर करने में बहुत लाभकारी है। जानते हैं सत्तू के फायदे में..

मोटापा कम करता है- 
सत्तू में कई प्रकार के पोषक तत्व मौजूद होते हैं। यह शरीर को सम्पूर्ण आहार देने के लिए सबसे ज्यादा उपयुक्त माना जाता है। यदि आप सत्तू पीते हैं तो लम्बे समय तक आपको भूख नहीं लगेगा, जिससे आपका वजन कम होगा।

एनीमिया दूर करता है- 
यदि आपके शरीर में खून की कमी है तो सत्तू पीना आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। एनीमिया से पीड़ित लोग रोजाना पानी में सत्तू डालकर पी सकते हैं। यह आपके खून की कमी को दूर करेगा।

सत्तू से मिलेगी एनर्जी- 
यदि आपको थकान लग रही है और तुरंत एनर्जी की जरूरत है तो आप चने का सत्तू पी सकते हैं। चने के सत्तू में आयरन, मिनरल्स, मैग्नीशियम और फॉस्फोरस प्रचूर मात्रा में पाया जाता है, जिससे शरीर को तुरंत एनर्जी मिलती है।

ठंडक देता है और लू से बचाता है- 
सत्तू तासीर में ठंडा होता है जिसके वजह से गर्मियों में पेट को ठंडा रखने के लिए लोग सत्तू पीना ज्यादा पसंद करते हैं। अगर आप सत्तू पीते हैं तो लू लगने का खतरा भी कम हो जाता है। इसके सेवन से पेट संबंधी कई बीमारियां भी कम होती हैं।

डायबिटीज कम करता है- 
सत्तू में बीटा-ग्लूकेन पाया जाता है जो बढ़ते ग्लूकोस को कम करने के साथ ब्लड में शुगर लेवल को नियंत्रित करता है। विशेषज्ञों का कहना है कि, शुगर के मरीजों को रोजाना सत्तू का सेवन करना चाहिए।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending