अखिलेश यादव के बयान से नाराज हुआ साधु संत समाज, सामूहिक रूप से की माफी की मांग, कहा – माफी नहीं मांगने पर भुगतने होने गंभीर परिणाम

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ‘चिलमजीवी’ बयान पर अखिल भारतीय संत समिति ने कड़ा ऐतराज जताया है। उन्होंने अखिलेश यादव से बिना देरी किए सामूहिक रूप से माफी मांगने को कहा है। इतना ही नहीं संत समिति ने अखिलेश यादव को चेतावनी भी दी है की अगर वह माफी नहीं मांगते है तो पूरा साधु संत समाज घर-घर मे जाकर पितृ द्रोही, सनातन द्रोही तथाकथित नेता के खिलाफ राष्ट्रव्यापी आंदोलन मे जुटने की अपील करेगी।

अखिल भारतीय संत समिति के राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जितेंद्रनाथ सरस्वती का कहना है की, अखिलेश यादव के इस बयान से पूरे संत समाज की आत्मा को ठेस पहुंची है..उन्होंने कहा की ना केवल अखिलेश बल्कि ऐसे बहुत से नेता है जो लगातार सनातन धर्म, भगवा , और संतो पर अपमानजनक टिप्पणी करते है। उन्होंने आगे चेतावनी देते हुए कहा की अपनी ओछी राजनीति में संतो को ना घसीटे वरना इसके अंजाम बहुत गंभीर और कष्टदायक हो सकते है।

महामंत्री स्वामी जितेंद्रनाथ सरस्वती ने आगे कहा की, “हम लोग घर – घर में जाकर अखिलेश और कांग्रेस के खिलाफ जनजागरण अभियान चलाएंगे….क्योंकि ये दोनों ही पार्टी हिंदू विरोधी और आस्तिक प्रवृति की है।” उन्होंने आगे कहा की प्राचीन काल से ही भारत में हिंदुत्व सर्वोपरि रहा है और आज की राजनीति ने हिंदुत्व का माखौल उड़ा दिया है। कोई नेता हो या मुख्यमंत्री किसी को भी संतो पर सवाल उठाने का अधिकार नहीं है।

उन्होंने आगे अखिलेश और राहुल की ओर इशारा करते हुए कहा की, “कुछ लोगो ने अपनी गंदी राजनीति का शिकार हिंदू धर्म को बना लिया है…अखिलेश और राहुल जैसे नेता केवल अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की बात कर सकते है। उन्होंने योगी आदित्यनाथ का बचाव करते हुए कहा की अगर एक संत संविधान द्वारा प्रदत्त अधिकार से मुख्यमंत्री पद पर आसीन है तो उसका मतलब ये नही होता की उसे गंदी और अभद्र राजनीति का शिकार बनाया जाए।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending