डायबिटीज के मरीजों के लिए राहत, वैज्ञानिकों ने विकसित किया ‘कृत्रिम पेन्क्रियाज’, ब्लड शुगर रहेगा कंट्रोल

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी और स्विटजरलैंड की यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल ऑफ बर्न के वैज्ञानिकों ने कृत्रिम पेन्क्रियाज विकसित किया है। जो टाइप-2 डायबिटीज के मरीज हैं और किडनी डायलिसिस के मरीजों को बहुत फायदा पहुंचा सकता है। इसकी मदद से मरीज अपने शरीर में हाई और लो ब्लड शुगर को कंट्रोल कर सकेंगे। मरीज को अलग से इंसुलिन के इंजेक्शन लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
जर्नल नेचर मेडिसिन में पब्लिश रिसर्च के मुताबिक, कृत्रिम पेन्क्रियाज को एक सॉफ्टवेयर की मदद से ऑपरेट किया जाता है। यह सॉफ्टवेयर यूजर के स्मार्टफोन में मौजूद रहता है और मरीज में इंसुलिन कंट्रोल करने के लिए कृत्रिम पेन्क्रियाज को सिग्नल भेजता है। ग्लकोज मॉनिटर की मदद से मरीज में ब्लड शुगर का लेवल चेक किया जाता है और उसके मुताबिक सिग्नल भेजे जाते हैं।
शोधकर्ता डॉ. शेरलोट बॉगटन के अनुसार, शरीर में हाई और लो ब्लड शुगर की स्थिति में सबसे ज्यादा खतरा डायबिटीज और किडनी के मरीजों को रहता है। इससे निपटने के लिए कृत्रिम पेन्क्रियाज को तैयार किया गया है। इसके ट्रायल के लिए अक्टूबर 2019 और नवम्बर 2020 के बीच डायबिटीज के 26 ऐसे मरीजों को चुना गया जो डायलिसिस पर थे। इनमें से 13 मरीजों में कृत्रिम पेन्क्रियाज लगाया गया। वहीं, अन्य 13 को इंसुलिन थैरेपी दी गई।
दोनों तरह के मरीजों की तुलना की गई। 20 दिन बाद देखा गया कि कितने समय तक मरीजों में ब्लड शुगर की टार्गेट रेंज (5.6 से 10.0mmol/L) रही। रिजल्ट में सामने आया कि मरीजों में बढ़ा हुआ ब्लड शुगर कंट्रोल हुआ। ऐसे काम करता है कृत्रिम पेन्क्रियाज। अब इसका ट्रायल ऐसे लोगों पर किया जा रहा है जो डायबिटीज से तो पीड़ित हैं, लेकिन उन्हें डायलिसिस की जरूरत नहीं है। जल्द ही इसके नतीजे जारी हो सकते हैं।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending