राम मंदिर विवाद: श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट ने विपक्ष के आरोपों को खारिज कर जारी किया फैक्ट

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (Ram Mandir) की जमीन पर लगे घोटाले के आरोप ने अपना सियासी रंग दिखाना शुरू कर दिया है। मामला तूल पकड़ते जा रहा है बता दें बीजेपी पर राम मंदिर घोटाले का आरोपी लगाने वाले आप नेता संजय सिंह के घर पर मंगलवार दिनदहाड़े लोगो ने हमला बोल दिया और उनके नेम प्लेट पर कालिख पोत दी। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर कार्य जितनी तेजी के साथ आगे बढ़ रहा है। उतनी ही तेजी से राजनीति गर्मानी शुरू हो चुकी है। 
इन्ही सब मामलो के बीच राम मंदिर की जमीन खरीदने को लेकर आरोप लगा है कि, जिस जमीन की कीमत 2 करोड़ थी, 18 करोड़ में खरीदा गया है। यह आरोप समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की ओर से लगाया गया है। वहीं इस बीच खबर है कि श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा इस पूरे विवाद पर केंद्र को रिपोर्ट भेजी गई है। इसके अलावा ट्रस्ट की ओर से भारतीय जनता पार्टी (BJP), राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) को भी रिपोर्ट सौंपी गई है। सभी आरोपों को ट्रस्ट ने विपक्षी दलों की साजिश करार दिया है।
श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने अपने बयान में कहा कि, ” जिस जमीन को लेकर विवाद हो रहा है वह बहुत प्राइम लोकेशन है। भविष्य में यहां से चार लेने की सड़क मंदिर की ओर निकलेगी। यह जमीन 1.2080 हेक्टेयर है। इसे 1,423 रुपये पर स्कॉयर फीट पर खरीदा गया है जो अयोध्या में इस इलाके के जमीन की वास्तविक दरों से बहुत कम है।”

राम मंदिर विवाद पर एक्शन में योगी सरकार

अब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने अयोध्‍या के निर्माणाधीन राम मंदिर की जमीन खरीद में लगे आरोपों पर संज्ञान लेते हुए पूरे मामले की रिपोर्ट तलब की है। इतना ही नहीं सीएम योगी ने ट्रस्ट और जिला प्रशासन से इस मामले में विस्तृत जानकारी देने को भी कहा है। उधर अयोध्या जमीन विवाद पर राज्य के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य की प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने आरोप साबित होने पर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की बात कही है। 

मंगलवार को केशव प्रसाद मौर्य ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए है। पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा, रामलला का भव्य मंदिर निर्माण राम द्रोहियों को बर्दाश्त नहीं हो रहा। दूसरे ट्वीट में डिप्टी सीएम ने लिखा,राम भक्तों का भरोसा अटल राजनीति स्वीकार नहीं। जबकि तीसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, राम भक्तों को राम द्रोही उपदेश न दें।
विपक्ष के आरोपों के बीच चंपत राय का जवाब

विपक्ष के राम मंदिर जमीन घोटाले के आरोपों पर श्रीराम जन्म तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय (Champat Rai) ने एक बार फिर दो टूक जवाब दिया है। चंपत राय ने कहा कि, जितना क्षेत्रफल है उसकी तुलना में इस भूमि का मूल्य 1423 रुपये प्रति वर्ग फीट है जो बाजार मूल्य से बहुत कम है। मालिकाना हक का निर्णय करना बहुत जरूरी था जो कराया गया। हमने जमीन का एग्रीमेंट करा लिया। अभी बैनामा कराया जाना बाकी है। उन्होंने कहा कि, सभी लेनदेन बैंक टू बैंक हुए हैं और टैक्स में कोई चोरी नहीं की गई है। दुर्भाग्यपूर्ण है कि आरोप लगाने वालों ने आरोप से पहले ट्रस्ट के पदाधिकारियों से तथ्यों की जानकारी नहीं ली। उन्होंने समाज को भ्रमित किया है। भ्रमित न हों और मंदिर समय सीमा में पूरा करने में सहयोग करें।
बता दें की श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने मंगलवार को सोशल मीडिया पर जमीन खरीद को लेकर कुछ फैक्ट जारी किए हैं। जिसमें दावा किया गया है कि जो जमीन ली गई है, वह प्राइम लोकेशन पर है इसलिए उसके दाम ज्यादा हैं। जितनी जमीन की खरीद हुई है, उसका दाम 1423 प्रति स्क्वायर फीट है। इस डील को लेकर 10 साल से चर्चा चल रही थी, जिसमें नौ लोग शामिल थे।
गौरतलब हो के विपक्ष ने राम मंदिर की जमीन खरीदने को लेकर सरकार पर आरोप लगाया है कि, जिस जमीन की कीमत 2 करोड़ थी, उसे 18 करोड़ में खरीदा गया है। यह आरोप समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी की तरफ से लगाया गया है। 

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending