राहुल गांधी ने बीजेपी और आरएसएस पर लगाया देवी लक्ष्मी और दुर्गा के अपमान का आरोप, कहा- केवल हिंदू धर्म के नाम का करते है इस्तेमाल

कांग्रेस की महिला इकाई ‘अखिल भारतीय महिला कांग्रेस’ के स्थापना दिवस समारोह में पहुंचे कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर देवी लक्ष्मी और दुर्गा के अपमान का आरोप लगाया और बीजेपी के हिंदुत्व पर सवाल उठाते हुए कहा कि, “दीपावली का त्योहार आने वाला है लक्ष्मी जी की मूर्ति आपने देखी हैं। मां लक्ष्मी क्या हैं। लक्ष्मी वो शक्ति है जो घर में पैसा लाती हैं ऐसा नहीं है। लक्ष्मी का मतलब लक्ष्य कोई राजनेता, कोई फुटबॉलर जिसका जो लक्ष्य होता उसे जो शक्ति पूरा करती है तो उसे लक्ष्मी कहते हैं।”

राहुल गांधी ने महिला कार्यकर्ताओं से दुर्गा का मतलब पूछा। उन्होंने कहा कि जो शक्ति रक्षा करती है उसे दुर्गा कहते हैं। राजनेता का काम दुर्गा और लक्ष्मी को इन शक्तियों को हर व्यक्तियों तक बिना भेदभाव के पहुंचाने का होता है। दुर्गा मतलब रक्षा और लक्ष्मी मतलब लक्ष्य पूरा करने का काम। प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा कि जब मोदी जी ने नोटबंदी की तो उन्होंने माताओं और बहनों को लक्ष्मी शक्ति बढ़ाई या कम की। किसानों पर तीन कानून लागू किए तो लक्ष्य पूरे करने वाली शक्ति किसानों को दी गई या छीन ली गई। 

राहुल गांधी ने कहा कि, ” हमने मनरेगा लागू किया तो लक्ष्मी की शक्ति दी या नहीं। आरटीआई लाकर दुर्गा की शक्ति दी या नहीं। वो खुद को हिंदू पार्टी कहते हैं पूरे देश पर दुर्गा और लक्ष्मी पर वार करते हैं। हिंदू नहीं हैं वो।” बता दें बुधवार को ऑल इंडिया महिला कांग्रेस के स्थापना दिवस के मौके पर राहुल गांधी ने नया प्रतीक चिन्ह और नए झंडे का अनावरण किया। राजधानी दिल्ली में आयोजित इस कार्यक्रम में महिला कांग्रेस का नया लोगो जारी किया गया। 

इस मौके पर राहुल गांधी ने नए चिन्ह को लेकर कहा कि यह हाथ के अंदर ही होना चाहिए। हाथ का चिन्ह हर धर्म में दिखाई देगा। शिवजी की फोटो में दिखेगा, महावीर की फोटो में दिखेगा, बुद्ध, गुरु नानक, ईसा मसीह सब जगह दिखाई देगा। मुस्लिम धर्म जहां चिन्ह वर्जित है वहां भी अल्लाह से दुआ हाथ से मांगी जाती है। हाथ मतलब आशीर्वाद नहीं सच्चाई है। हिंदुस्तान में दस पन्द्रह लोग हैं जिनके पास लक्ष्मी और दुर्गा की शक्ति है। 

कांग्रेस की महिला इकाई ‘अखिल भारतीय महिला कांग्रेस’ के स्थापना दिवस समारोह में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने यह दावा भी किया कि आरएसएस और भाजपा के लोग ‘महिला शक्ति’ को दबा रहे हैं और भय का माहौल पैदा कर रहे हैं। महिला कांग्रेस के कार्यक्रम में शिरकत करते हुए राहुल ने यह भी कहा कि बीजेपी ने कभी महिला को प्रधानमंत्री नहीं बनाया है। 

कांग्रेस नेता के मुताबिक, भाजपा और आरएसएस के लोगों ने पूरे देश में डर फैलाया है, किसान डरे हुए हैं, महिलाएं डरी हुई हैं। उन्होंने कहा कि आरएसएस महिला शक्ति को दबाता है, लेकिन कांग्रेस का संगठन महिला शक्ति को समान मंच देता है। राहुल गांधी ने कहा कि आज देश में आरएसएस- बीजेपी की सरकार है। इनकी जो विचारधारा और हमारी जो विचारधारा है दोनों अलग है।

राहुल गांधी ने पूछा सवाल कहा- महात्मा गांधी को गोली क्यों मारी गई?

राहुल गांधी ने कहा, ”अगर पिछले 100-200 साल में किसी एक व्यक्ति ने हिंदू धर्म को सबसे अच्छे तरीके से समझा और अपने व्यवहार में लाया, तो वह महात्मा गांधी हैं। इसे हम भी मानते हैं और आरएससस एवं भाजपा के लोग भी मानते हैं… महात्मा गांधी ने अहिंसा को सबसे अच्छे तरीके से जिया। हिंदू धर्म की बुनियाद अहिंसा है। इसके बावजूद आरएसएस की विचारधारा द्वारा महात्मा गांधी को गोली क्यों मारी गई? इस बारे में आपको सोचना होगा।” 

उन्होंने कहा कि वह आरएसएस और भाजपा की विचारधारा के साथ कभी समझौता नहीं कर सकते। राहुल गांधी ने जोर देकर कहा, ”देश में आरएससस और भाजपा की सरकार है। इनकी विचारधारा और हमारी विचारधारा अलग-अलग हैं। कांग्रेस की विचारधारा गांधी की विचारधारा है। गोडसे और सावरकर की विचारधारा और हमारी विचारधारा में क्या फर्क है, इसे हमें समझना होगा… हमें इनके खिलाफ प्रेम से लड़ना है। नफरत के जरिये हम नहीं लड़ सकते।”

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending