पीएम मोदी ने पूरे विश्व को दिया बड़ा तोहफा… M-Yoga App का किया ऐलान, जानें खासियत

International Yoga Day 2021: आज पूरी दुनिया 7वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day 2021) मना रही है। इस साल हो रहे अंतराष्ट्रीय योग दिवस की थीम ‘योग फॉर वेलनेस’ रखी गई है। सोमवार 21 जून को अंतराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर देश की जनता को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा,”आज जब पूरा विश्व कोरोना महामारी का मुकाबला कर रहा है तो योग उम्मीद की एक किरण भी बना हुआ है।” इसके साथ ही पीएम मोदी ने दुनियाभर में योग को पहुंचाने के लिए मोबाइल ऐप M-Yoga भी लॉन्च किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश और दुनिया को संबोधित करते हुए कहा कि अब विश्व को, M-Yoga ऐप की शक्ति मिलने जा रही है। इसमें योग प्रशिक्षण के कई वीडियो दुनिया की अलग-अलग भाषाओं में उपलब्ध होंगे। ये ऐप योग का विस्तार दुनिया में करने और One World, One Health के प्रयासों को सफल बनाने में बड़ी भूमिका निभाएगा।

बता दें कि भारत ने इस ऐप को विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ मिलकर तैयार किया है। यह ऐप वन वर्ल्ड, वन हेल्थ को सफल बनाने में बड़ी भूमिका निभाएगा। वर्तमान में यह ऐप फ्रेंच, अंग्रेजी और हिंदी में उपलब्ध है और भी भाषाओं में जल्द उपलब्ध होगा। पीएम मोदी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि, जब भारत नें संयुक्त राष्ट्र में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का प्रस्ताव रखा था तो उसके पीछे ये ही भावना थी कि योग विज्ञान पूरे विश्व के लिए सुलभ हो। इस दिशा में भारत ने संयुक्त राष्ट्र, WHO के साथ मिलकर एक और महत्वपूर्ण कदम उठाया है।अब विश्व को M-Yoga एप की शक्ति मिलने जा रही है। उन्होंने कहा, इस ऐप में कॉमन योगा प्रोटोकॉल के आधार पर योग प्रशिक्षण के कई वीडियो दुनिया की अलग-अलग भाषाओं में उपलब्ध होंगे। ये आधुनिक तकनीकी और प्राचीन विज्ञान के फ्यूजन का भी एक बेहतरीन उदाहरण है।

जानिए M-Yoga ऐप की खासियत

>> M-Yoga ऐप का उपयोग 12-65 वर्ष की आयु के व्यक्तियों के लिए प्रतिदिन योग साथी के रूप में किया जा सकता है।
>> mYoga ऐप सेफ सेक्योर है, और यह यूजर्स से कोई डेटा नहीं लेता है।
>> वर्तमान में, यह फ्रेंच, अंग्रेजी और हिंदी में उपलब्ध है, आने वाले महीनों में और भाषाओं को जोड़ा जाएगा। एंड्रॉयड यूजर्स mYoga ऐप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं। 

डब्ल्यूएचओ (who) के अनुसार इस ऐप को वैज्ञानिक साहित्य की समीक्षा और व्यापक अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञ परामर्श के माध्यम से विकसित किया गया। लोगों को अपने स्मार्टफोन के स्पर्श में गुणवत्तापूर्ण योग का अभ्यास करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए डिजाइन किया गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने भी योग संबंधी एम योगा ऐप शुरू करने की जानकारी देते हुए कहा कि, “जब कोरोना के अदृश्य वायरस ने दुनिया में दस्तक दी थी, तब कोई भी देश साधनों से, सामर्थ्य से और मानसिक अवस्था से इसके लिए तैयार नहीं था। ऐसे समय में योग आत्मबल का बड़ा साधन बना। योग ने लोगों ने भरोसा बढ़ाया कि हम इस बीमारी से लड़ सकते हैं। आज जब पूरा विश्व कोरोना महामारी का मुकाबला कर रहा है, तो योग उम्मीद की एक किरण बना हुआ है। कोरोना के बावजूद इस बार के योग दिवस की थीम ‘Yoga for Wellness’ ने करोड़ों लोगों में योग के प्रति उत्साह को और बढ़ाया है।” 

पीएम ने आगे कहा कि महान तमिल संत श्री तिरुवल्लुवर जी ने कहा कि अगर कोई बीमारी है तो उसकी जड़ तक जाओ, बीमारी की वजह क्या है वो पता करो, फिर उसका इलाज शुरू करो। योग यही रास्ता दिखाता है। पीएम मोदी ने बताया कि यह ऐप को दुनिया भर के लोगों के लिए योग को और अधिक सुलभ बनाने के उद्देश्य से तैयार किया गया है, यह आधुनिक तकनीक और प्राचीन विज्ञान के मेल का एक बेहतरीन उदाहरण है। पीएम ने कहा कि जब भारत ने यूनाइटेड नेशंस में अंतररष्ट्रीय योग दिवस का प्रस्ताव रखा था, तो उसके पीछे यही भावना थी कि ये योग विज्ञान पूरे विश्व के लिए सुलभ हो। आज इस दिशा में भारत ने UN, WHO के साथ मिलकर एक और महत्वपूर्ण कदम उठाया है। बता दें कि पीएम मोदी की पहल पर ही संयुक्त राष्ट्र ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का ऐलान किया।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending