Pm kisan; किसानों को केंद्र से मिली एक नई सौगात, अब किसानों को मुफ्त में मिलेगी अरहर, उड़द और मूंग बीज की किट।

अगर आप भी है एक किसान तो आप भी हो जाइए तैयार अब सरकार किसानों को मुफ्त में देगी अरहर, उड़द और मूंग बीज की किट। 15 जून के बाद केन्द्र सरकार और कृषि मंत्रालय की तरफ से 82 करोड़ रूपए से ज्यादा की 20 लाख से ज्यादा मुफ्त में अरहद, उड़द और मूंग की मिनी किट बांटी जाएंगी। आगामी खरीफ सीजन 2021 में मंत्रालय 20,27,318 बीज किट वितरित करेगा। साल 2020-21 की तुलना में लगभग ये लगभग 10 गुनी होंगी। इन मिनी बीज किट्स का मूल्य लगभग 82.01 करोड़ रुपये है। अरहर, मूंग और उड़द के उत्पादन और उत्पादकता को बढ़ाने के लिए इन मिनी किट्स की कुल लागत केंद्र सरकार द्वारा वहन की जाएगी। 
दरअसल, कृषि मंत्रालय ने खरीफ 2021 सत्र में दलहन के उत्पादन और रकबा बढ़ाने के लिए यह विशेष खरीफ योजना तैयार की है। इस योजना के अंतर्गत, केंद्रीय एजेंसियों / राज्य एजेंसियों द्वारा भेजी जाने वाली ये मिनी किट 15 जून, 2021 तक जिला स्तर पर चिन्हिंत केंद्र तक पहुंचाई जाएंगी। कृषि मंत्रालय के अनुसार, केंद्र सरकार के इस प्रयास से पूरे देश में लगभग 4.05 लाख हेक्टेयर क्षेत्र कवर होगा। बता दें वर्ष 2007-08 की तुलना में वर्ष 2020-21 में दालों का उत्पादन 65 प्रतिशत बढ़ गया है। 
कृषि मंत्रालय के अऩुसार मंत्रालय ने राज्य सरकारों के माध्यम से ही अरहर, मूंग और उड़द की बुआई के लिए रकबा बढ़ाने और उत्पादकता बढ़ाने दोनों के लिए एक विस्तृत योजना तैयार की गई है। इस रणनीति के तहत, सभी उच्च उपज वाली किस्मों (एचवाईवीएस) के बीजों का उपयोग करना शामिल है। केंद्रीय बीज एजेंसियों या राज्यों में उपलब्ध यह उच्च उपज की किस्म वाले बीज, रकबा बढ़ाने वाले क्षेत्र में नि:शुल्क वितरित किए जाएंगे।
आपको बता दें कि देश में दालों की मांग को पूरा करने के लिए भारत अब भी 4 लाख टन अरहर, 0.6 लाख टन मूंग और लगभग 3 लाख टन उड़द का आयात कर रहा है। इसके साथ ही केंद्र सरकार की ये योजना उत्पादन और उत्पादकता को काफी हद तक बढ़ा देगी। साथ ही भारत को दालों के उत्पादन में आत्मनिर्भर बनने में मदद करेगी। इसके अलावा सरकार की इस नई योजना मे प्रदर्शन, मूल्य वृद्धि श्रृंखला विकास और विपणन के लिए 11 राज्यों में दालों के लिए 119 एफपीओ भी बनाए गए। वर्ष 2016-17 से, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत, 644 जिलों को दालों के कार्यक्रम में शामिल किया गया है।
केंद्रीय कृषि मंत्रालय के मुताबिक, उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रयास किसानों को गुणवत्ता वाले बीज उपलब्ध कराने पर केंद्रित रहा है। इस प्रयास की ओर एक बड़ा कदम 2016-17 में उठाया गया, जिसमें 24 राज्यों में 150 दालों के बीज के बडे केंद्रों का निर्माण किया गया। इसमें 97 जिलों में में कृषि-विज्ञान केंद्रों, 46 राज्य कृषि विश्वविद्यालयों और 7 आईसीएआर संस्थानों को शामिल किया गया, ताकि स्थान-विशिष्ट किस्मों और गुणवत्ता वाले बीजों की मात्रा प्रदान की जा सके। 

जानें किन किन राज्यों में बांटी जाएंगी ये मिनी किट

• अरहर को लगभग 11 राज्यों और 187 जिलों में कवर किया जाएगा। ये राज्य हैं, आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश।
• मूंग को 9 राज्यों और 85 जिलों में शामिल किया जाएगा। ये राज्य हैं, आंध्र प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश हैं।
• 6 छह राज्यों और 60 जिलों में उड़द को कवर किया जाएगा। ये राज्य हैं, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु और उत्तर प्रदेश हैं। उड़द को एकमात्र फसल के रूप में 6 राज्यों में शामिल किया जाएगा।

जानिए केंद्र सरकार की अरहद, उड़द और मूंग की मिनी किट में क्या-क्या शामिल होगा –

अरहर के एचवाईवीएस प्रमाणित बीज की 13,51,710 मिनी किट्स पिछले दस वर्षों के दौरान वितरित की गई, जबकि मूंग की 4,73,295 मिनी किट्स वितरित की गई। वहीं उड़द के 1,08,508 मिनी किट्स वितरित किए गए तो मूंग के पिछले दस वर्षों में 4,73,295 मिनी किट्स, एचवाईवीएस प्रमाणित बीजों की मात्रा जारी की गई है। संक्षेप में कुछ इस तरह जानिए।

1. अरहर के एचवाईवीएस प्रमाणित बीज की 13,51,710 मिनी किट्स पिछले दस वर्षों के दौरान वितरित की गई,जिनकी एक से अधिक फसल के लिए उत्पादकता 15 क्विन्टल / हेक्टेयर से कम नहीं है।

2. मूंग की 4,73,295 मिनी किट्स, पिछले दस वर्षों के दौरान मूंग के एचवाईवीएस प्रमाणित बीजों की मात्रा जारी की गई है, लेकिन एक से अधिक फसल के लिए उनकी उत्पादकता 10 क्विंटल/हेक्टेयर से कम नहीं है।
3. पिछले दस वर्षों के दौरान उडद के एचवाईवीएस प्रमाणित बीजों की 93,805 मिनी किट जारी की गई, लेकिन एक से अधिक फसल के लिए उनकी उत्पादकता 10 क्विंटल / हेक्टेयर से कम नहीं।
4. उड़द के प्रमाणित बीजों वाले उड़द के 1,08,508 मिनी किट्स, पिछले 15 वर्षों के दौरान जारी की गई हैं और केवल एक फसल के लिए उनकी उत्पादकता 10 क्विंटल / हेक्टेयर से कम नहीं है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending