दिवालिया होने के कगार पर पहुंचा पाकिस्तान, हो सकती है श्रीलंका जैसी हालत

पाकिस्तान की आर्थिक हालत इस समय काफी खस्ताहाल है। अचानक सत्ता में परिवर्तन और लगातार बढ़ रहे कर्ज के बोझ ने पाकिस्तान की हालत खराब कर दी है। इसी बीच बताया जा रहा है कि पाकिस्तान का खजाना तेजी से खाली हो रहा है और उस पर कर्ज का बोझ इतना ज्यादा बढ़ गया है कि उसे चुका पाना पाकिस्तान के लिए अब नामुमकिन सा हो गया है। इसको देखते हुए पाकिस्तान की शहबाज  शरीफ सरकार ने कई उपाय किए हैं लेकिन फिर भी कोई मदद से नहीं मिल पा रही है। कहा तो ये जा रहा है कि पाकिस्तान जल्द ही दिवालिया हो सकता है। खबरों की मानें तो पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार खत्म होने की कगार पर पहुंच गया है और ऐसी स्थिति में पाकिस्तान की हालत भी श्रीलंका की तरह हो सकती है। 

विदेश मामलों के जानकार बताते हैं कि पाकिस्तान को अगर कहीं से बड़ा कर्ज मिल जाए तो थोड़ी राहत मिल सकती है लेकिन इसके आसार काफी कम ही नजर आ रहे हैं। पाकिस्तान जिस तरह से कर्ज के तले दबा हुआ है ऐसी स्थिति में कोई भी देश पाकिस्तान को कर्ज देकर मुसीबत मोल लेना नहीं चाहता है। पाकिस्तान के समाचार पत्रों में छपी रिपोर्ट  की मानें तो पाकिस्तान का 2021 में विदेशी मुद्रा भंडार 20 अरब डॉलर था जिसमें तेजी से गिरावट दर्ज की गई है और वेब2022 में घटकर केवल 10 अरब डालर रह गया है। रिपोर्ट्स की मानें तो पाकिस्तान का बजट घाटा 5 खरब रुपए के करीब हो गया है जबकि चालू खाता घाटा 20 अरब डॉलर है। ऐसे में पाकिस्तान इस समय दिवालिया होने के कगार पर खड़ा है। पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति इस समय इतनी खस्ता हाल है कि उसने कई गैर जरूरी चीजों के इंपोर्ट पर रोक लगा दी है। 

इसके साथ ही पाकिस्तान की शहबाज शरीफ सरकार इस समय देश को आर्थिक तंगी से निकालने के लिए कई प्रयास कर रही है लेकिन इसका फायदा काफी कम ही होता नजर आ रहा है। अब आने वाले दिनों में देखना होगा कि जिस तरह से पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार तेजी से खाली हो रहा है और पाकिस्तान के लिए कर्ज को चुकाना मुश्किल हो गया है, क्या पाकिस्तान की भी हालत श्रीलंका जैसी होगी या फिर समय रहते पाकिस्तान इसका कोई हल निकल लेगा।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending