ओवैसी ने संघ प्रमुख मोहन भागवत पर किया पलटवार कहा, ‘आरएसएस एकता की नही नफरत की बात करता है’

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच द्वारा रविवार को आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) के लिंचिंग को लेकर दिए गए बयान पर एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने उठाए सवाल कहा, आरएसएस प्रमुख यदि मानते हैं कि लिंचिंग हो रही है तो यह करवा कौन रहा है? ओवैसी ने सवाल किया, अगर वह आरएसएस प्रमुख वाकई लिंचिंग को बीमारी समझते हैं तो उनको इसे अस्वीकार करना पड़ेगा। एकता की बात भारत का संविशन करता है। हिंदुत्व एकता की बात नहीं करता।

असदुद्दीन ओवैसी ने आगे कहा, “हम मोहन भागवत जी से पूछना चाहते हैं की मेजोरिटी कम्युनिटी में आरएसएस (RSS) की वजह से कट्टरता बढ़ चुकी है तो क्या जिन लोगों की लिंचिंग की गई, उनको जिन्होंने मारा उनका आरएसएस विरोध करेगा। अगर आरएसएस मानती है लिंचिंग हो रही है तो यह करवा कौन रहा है?” उन्होंने कहा, यह लोग मुसलामनों को गाली देते हैं लेकिन पुलिस कोई एक्शन नहीं लेती। यह सिर्फ बोलने की बात करते हैं, जनता की आंख में धूल झोंकी जा रही है। जमीन पर कुछ नहीं हो रहा है।

गौरतलब हो की संघ प्रमुख मोहन भागवत रविवार को एक कार्यक्रम के दौरान मोब लिंचिंग पर बोलते हुए कहा था की, भीड़ द्वारा पीट-पीटकर की जाने वाली हत्या (लिंचिंग) में शामिल होने वाले लोग हिंदुत्व के विरुद्ध हैं। देश में एकता के बिना विकास संभव नहीं। एकता का आधार राष्ट्रवाद और पूर्वजों की महिमा होनी चाहिये। मोहन भागवत ने कहा, हम लोकतांत्रिक देश में रहते हैं। यहां हिंदू या मुसलमानों का प्रभुत्व नहीं हो सकता। केवल भारतीयों का प्रभुत्व हो सकता है। उन्होंने कहा, अल्पसंख्यक के मन में डर बैठा दिया गया है कि आप हिन्दू राष्ट्र में रहोगे तो मुश्किल है जो गलत है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending