प्याज ने एक बार फिर बढ़ाए अपने भाव, पिछले साल के मुकाबले डबल हुए थोक दाम

प्याज फिर करने वाला है आम जनता की जेब ढीली, निकालेगा सबके आंसू, खराब बीज, बेमौसम बारिश और ओले की वजह से बड़े प्याज के दाम इस साल प्रति एकड़ तीन टन तक कम है उत्पादकता, महंगा रह सकता है प्याज। सबसे बड़े प्याज उत्पादक राज्य महाराष्ट्र में इस समय थोक दाम 1100 से 1500 रुपये क्विंटल तक चल रहा है। जबकि पिछले साल इस वक्त औसतन 400 से 600 रुपये क्विंटल का ही दाम था। इसकी बड़ी वजह उत्पादन में कमी है।

रबी सीजन की प्याज खेतों से निकल रही है फिर भी इसका दाम (Onion Price) अभी रिटेल में 25 रुपये प्रति किलो चल रहा है। हालांकि, इतने थोक दाम पर भी किसानों को कोई खास फायदा नहीं मिल पा रहा है, क्योंकि लागत ही करीब 16 रुपये किलो आती है।

महाराष्ट्र प्याज उत्पादक संगठन के संस्थापक अध्यक्ष भारत दिघोले ने बताया कि इस बार प्याज 10 से 13 टन ही एवरेज मिल रहा है। ऐसे में 11 से 15 रुपये प्रति किलो का औसत दाम कोई ज्यादा नहीं है। फसल कम रहेगी तो दाम में वृद्धि तय है। किसान तो अब भी नुकसान में ही हैं। उन्हें न तो अपनी मेहनत का पैसा मिल रहा है और न तो जमीन का किराया। महाराष्ट्र के नासिक, अहमदनगर, पुणे, धुले, और सोलापुर जिले में इसकी सबसे अधिक खेती होती है। इन सब जगहों पर इस साल उत्पादकता कम हुई है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending