विवादों में घिरे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ने सीएम चन्नी को बताया महिलाओं के लिए खतरा

पंजाब कांग्रेस में जारी कलह थमता नजर नही आ रहा है। पहले कैप्टन अमरिंदर के साथ सिद्धू के खराब रिश्तों की वजह से पार्टी में शुरू हुई अंदरूनी कलह अभी थोड़ी कम ही हुई थी कि अब राज्य के नए मुख्यमंत्री चुने गए चरणजीत सिंह चन्नी को लेकर विवाद पनपने लगा है। दरअसल, सीएम पद मिलते ही चन्नी पर लगा ‘मी-टू’ का घाव एक बार फिर हरा हो गया है।

इस मामलों को लेकर जहां एक ओर भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस पर तो हमलावर थी ही तो वहीं अब राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने भी चन्नी को सीएम पद दिए जाने पर निशाना साधा है। राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा, ”2018 के मी टू मूवमेंट के दौरान उनके (पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी) खिलाफ आरोप लगाए गए थे।

राज्य महिला आयोग ने मामले का स्वत: संज्ञान लिया और अध्यक्ष उन्हें हटाने की मांग को लेकर धरने पर बैठीं, लेकिन कुछ नहीं हुआ।” बता दें चन्नी तब अमरिंदर सरकार में मंत्री थे। 2018 में उनके खिलाफ महिला आईएएस अधिकारी को अश्लील मैसेज भेजने का आरोप लग चुका है। शर्मा ने आगे कहा, ”आज उन्हें पंजाब का मुख्यमंत्री उस पार्टी की ओर से बनाया गया है, जिसकी प्रमुख एक महिला हैं।

यह धोखा है। वह महिला सुरक्षा के लिए खतरा हैं। उनके खिलाफ जांच होनी चाहिए। वह मुख्यमंत्री बनने लायक नहीं हैं। मैं सोनिया गांधी (कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष) से अपील करती हूं कि उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाया जाए। बहरहाल कांग्रेस चरणजीत सिंह चन्नी को सीएम बनाने पर घिर गई है लेकिन अब देखना ये होगा कि ये विवाद आखिर कब तक थमेगा।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending