नवाजुद्दीन सिद्दीकी का छलका दर्द, बोले- फिल्म इंडस्ट्री में रेसिज्म के कारण मुझे कई सालों तक रिजेक्ट किया गया

एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में अपनी फिल्म ‘सीरियस मैन’ और बॉलीवुड में नेपोटिज्म के मुद्दे पर बात की। जिसमें उन्होंने बताया कि नेपोटिज्म से ज्यादा फिल्म इंडस्ट्री में रेसिज्म की समस्या है।नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने कहा, “सुधीर साहब को सिनेमा के बारे में अपार ज्ञान है और उनकी विचार प्रक्रिया बहुत प्रैक्टिकल है।

उन्होंने ‘सीरियस मैन’ में इंदिरा को हीरोइन के रूप में लिया और मैं आपको गारंटी दे सकता हूं कि हमारी फिल्म इंडस्ट्री में इतना रेसिज्म है। अगर इंदिरा को फिर से किसी फिल्म में मुख्य भूमिका में लिया जाता है, तो मुझे बहुत खुशी होगी। सुधीर मिश्रा ने ऐसा किया, लेकिन प्रभारी प्रमुखों का क्या? नेपोटिज्म से ज्यादा इंडस्ट्री में हमें रेसिज्म की समस्या है।”

47 साल के नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने आगे कहा, “मैंने कई सालों तक रेसिज्म के खिलाफ लड़ाई लड़ी और मुझे उम्मीद है कि सांवली त्वचा वाली एक्ट्रेस को भी हीरोइन बनाया जाएगा, यह बहुत जरूरी है। मैं त्वचा के रंग के बारे में भी बात नहीं कर रहा हूं। इंडस्‍ट्री में काफी पक्षपात है, जिसका बेहतर फिल्मों के निर्माण के लिए खत्‍म होना जरूरी है, ताकि बेहतर फिल्‍में बन सकें।

मुझे कई सालों तक सिर्फ इसलिए रिजेक्‍ट किया गया, क्‍योंकि मेरा कद छोटा था और मैं वैसा दिखता था जैसा इंडस्ट्री में अमूमन नहीं होता है। फिर भी अब मैं शिकायत नहीं कर सकता हूं। लेकिन, कई ऐसे महान ऐक्‍टर्स हैं, जो पक्षपात का शिकार हो जाते हैं।”

बता दें कुछ दिनों पहले ही 47 साल के नवाजुद्दीन सिद्दीकी को इंटरनेशनल एमी अवॉर्ड्स के लिए नॉमिनेट किया गया है। जिसके चलते इन दिनों वे चर्चा में बने हुए हैं। नवाज को 2020 में रिलीज हुई अपनी फिल्म ‘सीरियस मैन’ के लिए एमी अवॉर्ड्स में बेस्ट एक्टर कैटेगरी में नॉमिनेशन मिला है। गौरतलब हो की इंटरनेशनल एकेडमी ऑफ टेलीविजन आर्ट्स एंड साइंसेज न्यूयॉर्क में 22 नंवबर को 2021 के इंटरनेशनल एमी अवार्ड्स के विजेताओं की अनाउंसमेंट करेगी।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending