सांई के इस मंत्र का जरूर करें जाप, खुशियों से भर जाएगी आपकी झोली

शिरडी के साईंनाथ बहुत ही दयालु माने जाते हैं, अपनी शरण में आने वाले सभी साईं भक्तों के सारे कष्टों को दूर कर उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी कर देते हैं। अगर किसी साईं भक्त के जीवन में किसी भी तरह की समस्या चल रही हो तो गुरुवार के दिन साईं बाबा के इस "ॐ साईं नमो नम:, श्री साईं नमो नम:, जय जय साईं नमो नम:, सद्गुरु साईं नमो नम:" चमत्कारी मंत्रों का जाप करें। मान्यताओं के अनुसार अगर किसी भक्त की कोई कामना पूरी नहीं हो पा रही हो तो केवल 7 गुरुवार तक साईंनाथ के इस चमत्कारी मंत्र का जप प्रति गुरुवार 1100 बार श्रद्धापूर्वक करने से हर इच्छा का पूर्ति हो जाती है। सांईं बाबा अपने भक्तों को हर कष्ट से बचाते हैं। संकट के समय सांईं का स्मरण किया जाए तो वे चमत्कार अवश्य करते हैं और किसी न किसी रूप में सांईं भक्तों को समाधान का मार्ग दिखाते हैं। सांईं बाबा द्वारा संकट निवारण के सैकड़ों किस्से प्रचलित हैं। 






मंत्र- ॐ साईं नमो नम:, श्री साईं नमो नम:, जय जय साईं नमो नम:, सद्गुरु साईं नमो नम:




ऐसी मान्यता है कि उपरोक्त मंत्र का जप एवं प्रार्थना का पाठ करने से श्री साईं नाथ अपने श्रद्धालु भक्तों की सारी मनोकामना पूरी कर देते हैं। सनातन धर्म के अनुसार गुरुवार का दिन जहां भगवान विष्णु की पूजा का दिन माना जाता है, तो वहीं ये दिन साईं बाबा के भक्तों के लिए भी खास होता है। बहुत से भक्त साईं मंदिर में जाकर अपनी हाजरी लगाते हैं और उनके मंत्रों का जप करते हैं, उनके नाम का भजन कीर्तन भी करते हैं। अगर आप भी साई बाबा की कृपा पाना चाहते है तो गुरुवार के दिन मंत्र के साथ इस तरह करें जाप।




1- गुरुवार के दिन सुबह ही संकल्प लेकर पूरे दिन उपवास रखें।


2- गुरुवार के दिन शाम के समय शिरडी या अन्य किसी भी साई मंदिर में जाकर एक 11 मुख वाला दीपक जलाकर बाबा के सामने रख दें, और 3 बार श्री साई चालीसा का पाठ करें ।


3- ऐसा कहा जाता है कि साई बाबा का व्रत एक बार शुरू करने के बाद लगातार 9 गुरुवार तक किया जाना चाहिए।


4- सुबह जल्दी उठाकर स्नान करने के बाद साईं बाबा की फोटो या मूर्ति की पूजा करें।


5- पूजा करते वक्त बाबा की मूर्ति या फोटों के नीचे पीले रंग का वस्त्र बिछाकर पीले फूलों की माला चढाएं।


6- साई बाबा की फोटो या मूर्ति को शुद्ध चंदन का तिलक लगाएं।


7- बाबा के सामने घी का दीपक जलाकर साई व्रत की कथा पढ़ने के बाद साईं बाबा के मंत्र का 108 बार जप करें।


8- साई नाथ को भोग लगाने के लिए बेसन के लड्डू या फिर किसी भी शुद्ध मावे की मिठाई का प्रयोग करे और भोग लगाने के बाद उसी भोग को घर के सभी लोगों में प्रसाद रूप में बांट दें।


9- व्रत में फलाहार ग्रहण करें लेकिन व्रत में नमक से बने पकवान ना खायें।


10- गुरूवार का व्रत पूरा होने के बाद गरीब, असहाय लोगों को भोजन अवश्य करावें, ऐसा करने बाबा की कृपा तुरंत करें।



More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending