अपने बयान से पलटे मुनव्वर राणा, बोले-तालिबान वाले बयान को गंभीरता से ना लें, मैं पीएम मोदी से इश्क करता हूं

हाल ही में भारत की तुलना तालिबान से करने वाले मशहूर शायर मुनव्वर राणा ने अब अपने सुर बदल लिए है। अब उनके तेवर ढीले पड़ते हुए नजर आ रहे है। अपने दिए बयान की सफाई में उन्होंने कहा की वे पीएम नरेंद्र मोदी से इश्क करते हैं और उनके तालिबान से ज्यादा हथियार भारत के माफियाओं के पास होने वाले बयान को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए।

बता दें ‘आजतक’ से एक्सक्लूसिव बात करते हुए मुनव्वर राणा ने भारत को तालिबान से भी ज्यादा क्रूर देश बताया था और सिर्फ इतना ही नही नाथूराम को तालिबानी आतंकी कहते हुए सभी हिन्दुओं को आतंकवादी बताया था। इसके अलावा, उन पर तालिबान और महर्षि वाल्मीकि की तुलना करने का भी आरोप लगा था, जिसके बाद लखनऊ में उनके खिलाफ तहरीर भी दायर की गई है।

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद मुनव्वर राणा ने तालिबान से ज्यादा हथियार भारत में होने की बात कही थी और अब इसकी सफाई मे राणा ने कहा, ”यह बात मैंने कही थी और इसे गंभीरता से नहीं लेना चाहिए, क्योंकि तालिबान एक जंगली कौम है और हिंदुस्तान एक मुल्क है। अगर 10-20 भी भारत में हथियार निकले तो यह बुरी बात है। 

उन्होंने आगे कहा की, मैंने कोई तुलना नहीं की थी और देश में कितने हथियार हैं, उसका रिकॉर्ड पुलिस के पास होगा। मेरा ऐसा कहना कोई बड़ी बात नही है। मैंने शायराणा अंदाज में हथियार वाली बात कही थी।राणा ने कहा, ”मैं मोदी जी को पसंद करता हूं। मेरी कमजोरी है कि मैं मोदी जी से इश्क करता हूं। जब मैंने अवॉर्ड वापस किया था, तब वे मुझसे काफी नाराज थे, लेकिन मेरी मां के निधन पर उन्होंने मुझे पत्र लिखा था और मैं काफी शर्मिंदा हुआ।”

उन्होंने आगे कहा, ”जब मैं मोदी जी से मिलने गया तो मैंने कहा कि सर, मैं इसलिए मिलने आया हूं कि आपने जब मेरी मां के निधन पर जब पत्र लिखा तो मैं शर्मिंदा हुआ। जब मैंने अवॉर्ड वापस किया था, तब आपने अपने पीए के जरिए से मुझे बुलाया था। मैं नहीं आ पाया था। मैंने उनसे यह भी कहा कि सबका साथ-सबका विकास के नारे पर सच्चे तौर पर अमल हो जाए तो मैं आपको इतिहास के पन्ने पर सम्राट अशोक की तरह देखना चाहता हूं, दागदार प्रधानमंत्री की तरह नहीं देखना चाहता।”

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending