मोदी सरकार की WHATSAPP को दो टूक, कहा – वापस ली जाए नई प्राइवेसी पॉलिसी

जब से सोशल मीडिया एप Whatsapp ने अपनी नई प्राइवेसी पॉलिसी की घोषणा की हैं इसको लेकर चर्चाओं का दौर जारी है. Whatsapp की नई पॉलिसी को यूजर्स अपनी प्राइवेसी के लिए खतरा बता रहे है. इसी बीच Whatsapp की नई पॉलिसी को लेकर चल रहे विवाद के बीच केंद्र की मोदी सरकार की भी एंट्री हो गई है. केंद्र सरकार ने whatsapp से साफ शब्दों में प्राइवेसी पॉलिसी में किए गए हालिया बदलावों को वापस लेने को कहा है. साथ ही सरकार ने Whatsapp से कहा कि कि किसी भी तरह का एकतरफा बदलाव निष्पक्ष और स्वीकार करने योग्य नहीं है. दरअसल,  whatsapp की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने वॉट्सऐप के CEO विल कैथकार्ट को एक पत्र लिखा हैं जिसमें मंत्रालय ने सोशल मीडिया एप से कहा हैं कि वैश्विक स्तर पर भारत में वॉट्सऐप का सबसे ज्यादा यूजर बेस है. मंत्रालय ने पत्र में कहा कि वॉट्सऐप की सेवा शर्तों और प्राइवेसी पॉलिसी में प्रस्तावित बदलाव से भारत के लोगों की पसंद और स्वायत्तता को लेकर गंभीर चिंताएं पैदा हुई हैं. भारत सरकार ने whatsapp से प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर अपने दृष्टिकोण पर फिर से विचार करने को कहा है.

ये हैं whatsapp की नई प्राइवेसी पॉलिसी –  Whatsapp की नई पॉलिसी कहती हैं कि वॉट्सऐप यूजर जो कंटेंट अपलोड, सबमिट, स्टोर, सेंड या रिसीव करते हैं, कंपनी उसका इस्तेमाल कहीं भी कर सकती है. साथ ही कंपनी उस डेटा को शेयर भी कर सकती है. Whatsappp की इसी पॉलिसी को लेकर विवाद चल रहा है. लोगों ने इस पॉलिसी के सामने आने के बाद व्हाट्सएप को अलविदा कहने का मन बना लिया है और लोग दूसरे प्लेटफार्म की और जाते दिख रहे है. आपको बता दे कि सोशल मीडिया एप whatsapp की ये पॉलिसी 8 फरवरी 2021 से लागू होनी थी पर इसको लेकर विवाद बढ़ने के बाद कंपनी ने डेडलाइन को बढ़ाकर 15 मई कर दिया गया है.

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending