दिल्ली के इंदिरा गांधी हॉस्पिटल में बनेगा मेडिकल कॉलेज, हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को लगेंगे पंख 

केजरीवाल सरकार द्वारका के सेक्टर-9 स्थित इंदिरा गांधी हॉस्पिटल को मेडिकल कॉलेज की सौगात देने जा रही है। मेडिकल कॉलेज द्वारका सेक्टर-17 में बनाया जाएगा। बताया जा रहा है कि इस कॉलेज के बनने के बाद जहां हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को पंख लगेंगे, वहीं, चिकित्सा व चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में दिल्ली और सशक्त होगा। आम लोगों को इलाज की बेहतर सुविधा मिलने के साथ ही युवाओं को रोजगार मिलेगा। ये मेडिकल कॉलेज साल 2025 तक बनकर तैयार होगा। शुरूआती दौर में यहां छात्रों को एमबीबीएस पाठ्यक्रम ऑफर किए जाएंगे। इसके बाद एमडी, एमएस, डीएम आदि की मेडिकल डिग्री दी जाएगी।

पढ़ाई के साथ  ही शोध पर दिया जाएगा विशेष ध्यान

द्वारका स्थित इंदिरा गांधी अस्पताल, दिल्ली सरकार का अस्पताल है। इस सरकारी अस्पताल में प्राइवेट मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल की तरह ही सुविधाएं उपलब्ध है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का कहना है कि पिछले सात वर्षों में दिल्ली के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर में बड़ा बदलाव आया है। केवल मेडिकल क्षेत्र में इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप नहीं हो रहा, बल्कि नए डॉक्टर भी तैयार हो रहे हैं और बेड्स की संख्या भी बढ़ी है। इंदिरा गांधी अस्पताल में मेडिकल कॉलेज बनने के बाद दिल्ली डॉक्टरों की नई फ़ौज तैयार करने में सक्षम होगा। डॉक्टर बनने का सपना देख रहे युवाओं को रोजगार के अवसर मिलेंगे।

साथ ही ऐसे छात्रों को सरकारी मेडिकल कॉलेज में दाखिले का अवसर मिलेगा, जो मेधावी तो थे लेकिन गरीबी के कारण भारी भरकम फीस वाले ‘डोनेशन की वसूली’ में लिप्त प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में दाखिला लेने में असर्मथ थे। उन्होंने बताया कि दिल्ली सरकार की ओर से लगातार स्वास्थ्य सुविधाओं और स्वास्थ्य शिक्षा को बढ़ावा दिया जा रहा है। इंदिरा गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में स्टूडेंट्स की पढ़ाई के साथ शोध पर विशेष ध्यान दिया जाएगा, ताकि यह मेडिकल कॉलेज शोध और मौलिकता का पॉवर हाउस बनकर उभरे।

मेधावी छात्रों और समग्र रूप से समाज को मिलेगा लाभ

इस संबंध में इंदिरा गांधी हॉस्पिटल के निदेशक डॉ. बीएल चौधरी ने बताया कि देश को अच्छे डाक्टरों की जरूरत है और उसी दिशा में द्वारका सेक्टर-17 में आधुनिक तकनीक व स्वास्थ्य सेवाओं पर आधारित मेडिकल स्कूल खोलने का निर्णय लिया गया। इससे मेधावी छात्रों और समग्र रूप से समाज को लाभ मिलेगा।

600 बेड वाला मातृ एवं शिशु कल्याण अस्पताल भी

दिल्ली सरकार द्वारा बनाए गए इंदिरा गांधी अस्पताल परिसर का एक हिस्सा खाली रखा गया है, जिस पर भविष्य में मातृ एवं शिशु कल्याण अस्पताल भी बनाया जाएगा। करीब 600 बेड का ये अस्पताल सभी सुविधाओं से लैस रहेगा। इसमें मां और नवजात से जुड़ी सारी सुविधाएं उपलब्ध रहेंगी। इसके लिए विशेष स्तर पर कार्य को लेकर तैयारी शुरू की जा रही है।

मरीजों को मिल रही है इमरजेंसी सेवाएं

आपको बता दें, वर्तमान में इंदिरा गांधी अस्पताल में मेडिसीन, बाल चिकित्सा, नेत्र विज्ञान, ईएनटी, त्वचा विज्ञान, शल्य चिकित्सा व भौतिक चिकित्सा सहित महिला रोग विशेषज्ञ ओपीडी चालू है। हाल ही में अस्पताल ने यहां इमरजेंसी सेवा भी शुरू की है। दिल्ली सरकार द्वारा यहां पर वैक्सीनेशन की भी सुविधा दी जा रही है।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending