मनोज सिन्हा ने कश्मीर में हिंसा भड़काने वालो को किया आगाह, कहा – जान लें सरकार किसकी है, हमे सौदेबाजी पसंद नही

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने रविवार को एक रैली के दौरान कहा कि कुछ लोग हिंसा भड़काने के लिए कश्मीर के लोगों की भावनाओं को उकसाने की नापाक कोशिशें कर रहे हैं। सिन्हा ने जम्मू-कश्मीर में हिंसा भड़काने और माहौल बिगाड़ने वालो को चेतावनी देते हुए कहा है की, “मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि उन्हें यह पता होना चाहिए कि दिल्ली में किसकी सरकार है और भारत का गृह मंत्री कौन है।

सरकार शांति बनाए रखने की उम्मीद में सौदेबाजी में यकीन नहीं रखती लेकिन वह जम्मू कश्मीर में जमीन पर शांति बनाए रखने को लेकर दृढ़ है।” उन्होंने कहा की, “हम आपको आश्वस्त करना चाहते हैं कि जिस तरीके से केंद्रीय गृह मंत्री ने सुरक्षा बैठक में हमें आश्वस्त किया है। मैं आपको पुन: आश्वस्त कर दूं कि इस केंद्र शासित प्रदेश के 1.25 करोड़ लोगों खासतौर से अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के जीवन और संपत्तियों की रक्षा करना हमारा प्रमुख कर्तव्य और जिम्मेदारी है।”

बता दें उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने यह बातें एक जन रैली के दौरान कही जिसमे गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल थे।
वहीं अपने संबोधन के दौरान उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने आगे कहा कि कश्मीरी शरणार्थी गंभीर समस्याओं का सामना करते हैं और उनके प्रशासन ने इन्हें हल करने के लिए एक ऑनलाइन पोर्टल शुरू किया है। उन्होंने कहा, “हमें 6,000 शिकायतें मिलीं और उनमें से 2,000 को हल कर लिया गया है तथा बाकी भी हल कर ली जाएगी।”

सिन्हा ने कहा कि हमारी सरकार शांति और यह सुनिश्चित करेगी कि जम्मू कश्मीर के लोगों की जिंदगी की रक्षा कैसे की जाए। इस दौरान अमित शाह ने कहा कि,पहले जम्मू में सिखों, खत्रियों, महाजनों को भूमि खरीदने का अधिकार नहीं था। जो शरणार्थी वहां से यहां आए थे, उनके अधिकार नहीं थे, वाल्मीकि, गुर्जर भाइयों के अधिकार नहीं थे।

भारत के संविधान के सभी अधिकार अब मेरे इन भाइयों को मिलने वाले हैं। उन्होंने कहा कि 5 अगस्त 2019 को प्रधानमंत्री मोदी ने ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए अनुच्छेद 370 और 35ए को खत्म किया। इससे जम्मू-कश्मीर के लाखों लोगों को अपने अधिकार प्राप्त हुए। साथ ही अब भारतीय संविधान के सभी अधिकार यहां के सभी लोगों को मिल रहे हैं।

More articles

- Advertisement -
Web Portal Ad300x250 01

ताज़ा ख़बरें

Trending